Diwali: धनतेरस पर इन सामानों की खरीदारी बनाएगी आपको धनवान 

Diwali: धनतेरस पर इन सामानों की खरीदारी बनाएगी आपको धनवान 

दीपावली का त्यौहार आ रहा है. इस बार दीपावली 27 अक्टूबर को मनाई जाएगी. इस सुख-समृद्धि व खुशियों के इस पर्व पर मां लक्ष्मी का पूजन किया जाता है. लेकिन उससे पहले धनतेरस मनाया जाता है. जो  हर साल कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की त्रयोदशी को पड़ता है. यह दिन बहुत ही शुभ माना जाता है. इसलिए इस दिन खरीदारी की जाती है. माना जाता है कि इस दिन खरीदारी करने से मां लक्ष्मी की उस परिवार पर कृपा बनी रहती है. तो आइए आज हम आपको बताते हैं, उन चीजों के बारे में जो खरीदारी के लिए शुभ होती हैं.  

1. सोने या चांदी के सिक्के - धनतेरस के दिन सोने या चांदी के सिक्के खरीदें, उस पर लक्ष्मी माता और गणेश जी का चित्र बना होना चाहिए. इस सिक्के का दिवाली के दिन विधिपूर्वक पूजा करें और अपने तिजोरी में रख दें. यह आपके धन-सं​पत्ति के लिए शुभ फलदायी होगा.

2. गोमती चक्र - धनतेरस के दिन आप 11 गोमती चक्र खरीद सकते हैं. यह शुभकारी होता है. यह परिजनों की सेहत और समृद्धि को बढ़ाता है. दिवाली के दिन इनका पूजन करें और पीताम्बर यानी पीले वस्त्र में बांधकर तिजोरी आदि में रख दें.

3. धनतेरस पर धनिया खरीदें - धनतेरस के दिन साबुत धनिया खरीदे का रिवाज है. इसे दिवाली वाले दिन लक्ष्मी पूजा के समय माता को अर्पित करें. फिर उसके कुछ दाने गमले में बो दें. उसमें यदि स्वस्थ पौधा निकलता है तो पूरे वर्ष आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी. यदि पौधा सामान्य और पतला है तो आपकी पूरे वर्ष आपकी आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी.

4. पीतल के बर्तन - धनतेरस के दिन देवताओं के वैद्य धनवन्तरि की पूजा होती है, उनको प्रिय धातु पीतल है. इस वजह से धनतेरस को पीतल के बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है.

5. लक्ष्मी-गणेश प्रतिमा - दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजा के लिए धनतरेस को ही माता लक्ष्मी और गणेश जी की प्रतिमा खरीद लेनी चाहिए. आपके लिए संभव हो तो चांदी की मूर्ति खरीदें अन्यथा मिट्टी की मूर्तियां या तस्वीर खरीद सकते हैं. पूजा के बाद इस मूर्ति को तिजोरी आदि में रख दें.

6. झाड़ू - कहा जाता है कि झाड़ू में माता लक्ष्मी का वास होता है. धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदने से घर में लक्ष्मी का प्रवेश होता है. दरअसल झाड़ू से हम घर की सफाई करते हैं और उससे घर की नकारात्मकता बाहर हो जाती है, इसलिए इसकर महत्व अधिक है. जो लोग व्यवसायी हैं उनको नए खाते और बही खरीदना चाहिए. दिवाली के दिन उनका पूजन करना चाहिए.

Related Story

Kartik Purnima: जानिए, कार्तिक पूर्णिमा का महत्व और शुभ मुहुर्त 
कार्तिक पूर्णिमा सभी पूर्णिमाओं में श्रेष्ठ मानी जाती है.
Baikunth chaturdashi: जानिए, बैकुंठ चतुर्दशी का महत्व और कथा
हिंदु धर्म में बैकुंठ चतुर्दशी का काफी महत्व है. इस दिन भगवान विष्णु के साथ भगवान शिव की उपासना करते हैं.
Devuthni Gyaras: आज चार महीने के शयनकाल के बाद जागेंगे भागवान
आज देवउठनी एकादशी का पर्व मनाया जा रहा है.
Devuthni Gyaras: जानिए, देवउठनी एकादशी का महत्व
हिंदू धर्म में देवउठनी एकादशी का बहुत बड़ा महत्व माना गया है.
Devuthni gyaras: तुलसी पूजा के बाद बजेंगी शहनाई  
दीपावली के बाद एकादशी तिथि आती है, जिसे देवशयनी एकादशी भी कहा जाता है.
आंवला नवमी : जानिए, आंवला नवमी के शुभ मुहुर्त 
आज आंवला नवमी मनाई जा रही है. इसे कार्तिक महीने की शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है.
दो प्रेमियों के प्यार की निशानी है ये मंदिर 
आप सभी ने सुना होगा कि यदि आप किसी से सच्चा प्रेम करते हैं तो वह आपको जरूर हासिल होगा.
आंवला नवमी : जानें, कैसे करें आंवला नवमी पूजन 
आंवला नवमी 5 नवंबर को मनाई जाएगी.