सुपरस्टार राजेश खन्ना की वसीहत विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली 

सुपरस्टार राजेश खन्ना की वसीहत विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली 

देश के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना के बंगले आशीर्वाद से शुरु हुए विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में 3 हफ्ते के लिए सुनवाई टली है. डिंपल कपाडिया की तरफ से मामले की सुनवाई 3 हफ्ते के लिए टालने की मांग की गई थी.

इससे पहले कोर्ट में दाखिल हलफनामे में राजेश खन्ना की पत्नी डिंपल कपाडिया ने कहा था कि उन्होंने राजेश खन्ना को कभी भी नहीं त्यागा. डिम्पल कपाड़िया का कहना है कि उनके और उनके पति सुपरस्टार राजेश खन्ना के बीच मधुर संबंध थे. ये बात बिल्कुल निराधार और बेबुनियाद है कि राजेश खन्ना और उनका संबंध खत्म हो गया था. वह अपनी बेटियों के साथ राजेश खन्ना से उनके घर आशीर्वाद में अक्सर मिलने जाया करती थी. कभी-कभी दामाद अक्षय कुमार भी उनके साथ आशीर्वाद जाते थे. वो राजेश खन्ना की नियमित रुप से देखभाल करती थी. वसीहत लिखते वक्त राजेश खन्ना सोचने समझने की स्थिति में थे और उनहोंने अपने पूरे होशों हवाश में वसीहत लिखी थी. 

गौरतलब है कि अनीता आडवाणी ने खुद को लिव इन पार्टनर बताते हुए मुम्बई की कोर्ट में घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत मामला दाखिल किया. लेकिन हाईकोर्ट ने मामले को रद्द कर दिया. हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देने पर सुप्रीम कोर्ट ने अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया, उनकी बेटी ट्विंकल और दामाद अक्षय कुमार को नोटिस भेजा था. 

सुप्रीम कोर्ट में दाखिल डिंपल ने जवाब में कहा है कि उन्होंने राजेश खन्ना से कभी तलाक नहीं लिया. शादीशुदा व्यक्ति के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहना गैर कानूनी है. अनिता आडवाणी राजेश खन्ना के साथ लिव इन रिलेशन में आशीर्वाद में रहती ही नहीं थी तो घर से बाहर निकालने का सवाल कहा पैदा होता है ? इसके अलावा घरेलू हिंसा का मामला पार्टनर के अलावा उन संबंधियों पर हो सकता है जो एक साथ घर में रहते हों. डिंपल ने कहा है कि वो तो उस घर में रहती ही नहीं थी तो उन पर अनीता ये केस नहीं कर सकती और हाईकोर्ट ने सही फैसला सुनाया है. ऐसे में अनिता घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत खुद को पीड़िता बताकर कैसे राहत मांग सकती हैं.

दरअसल 18 जुलाई 2012 को राजेश खन्ना की मृत्यू से कुछ दिन पहले ही अनीता आडवाणी ने ये केस किया था. सुप्रीम कोर्ट में अनीता ने कहा है कि दो दशक से ज्यादा वक्त से डिंपल ने राजेश खन्ना को त्याग दिया था. राजेश खन्ना और डिंपल कपाड़िया के अलग होने के बाद 25 साल से वो सुपरस्टार के साथ रह रही थीं. हर अच्छे बुरे वक्त में वो जीवन साथी की तरह रही इसलिए वो केस दाखिल करने की हकदार हैं. याचिका में ये भी कहा है कि डिंपल व अन्य ने राजेश खन्ना से गलत तरीके से वसीहत लिखवा ली थी. फिल्म स्टार अक्षय कुमार, टविंकल खन्ना ने भी डिंपल कपाडिया के हलफनामे को अपनाया है.

Related Story

मोदी-उद्धव ठाकरे की हुई मुलाकात
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सीएम बनने के बाद...
ठाकरे सरकार को झटका, BJP में शामिल हुए 400 शिवसैनिक
महाराष्ट्र में शिवसेना ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के...
पंकजा मुंडे ने दिया BJP से इस्तीफा? 
महाराष्ट्र की सियासत में एक बार फिर उबाल आ गया है...
खुलासा: फणडवीस ने इस काम को अंजाम देने किया था CM बनने का ड्रामा
कर्नाटक की उत्तर कन्नड़ लोकसभा सीट से बीजेपी सांसद और...
आखिरकार विधायकों को मिली मुक्ति, अब घर जा सकेंगे
महारष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की गठबंधन की...
उद्धव पर मेहरबान BJP, दूसरी परीक्षा आज
महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत परीक्षण पास करने के बाद...
महाराष्ट्र: फ्लोर टेस्ट में ठाकरे सरकार पास, मिले इतने वोट 
महाराष्ट्र विधानसभा में उद्धव ठाकरे को पूर्ण बहुमत से...
Maharstra: Bjp ने बहुमत परीक्षण का किया बहिष्कार
उद्धव ठाकरे के फ्लोर टेस्ट से पहले ही विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ.