liveindia.news

बिहार में बीजेपी का बडा गेम प्लान

बिहार की बिसात पर बीजेपी एक से बढ़कर एक दांव चल रही है. बीजेपी के नए गेम प्लान में कुछ समझ नही आ रहा कि बीजेपी आखिर किसकी दोस्त है और किसकी दुश्मन है. मतलब समझ नही आ रहा कि बीजेपी LJP से दोस्ती निभा रही है या फिर JDU से. 

दरअसल, LJP ने जब से अलग चुनाव लडने के ऐलान किया है. बीजेपी दोनों ही पार्टियों के बीच से अपने रास्ते तलाशने लगी है. पहले एलजेपी के सीटों के फार्मूले पर बीजेपी ने उसका साथ दिया. फिर जब चिराग ने नीतिश के नेतृत्व को नकारा. तब भी बीजेपी ने चिराग का साथ दिया. आखिरकार चिराग ने अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान किया और कहा कि बीजेपी के प्रत्याशियों के सामने वो प्रत्याशी नहीं उतारेगा और अगर एलजेपी के प्रत्याशी मैदान में रहे भी तो वो बहुत हल्के होगें, जो बीजेपी को टक्कर नही दे सके. 

इस बीच बीजेपी ने नीतीश के साथ सीटों का समझौता कर लिया और अपने उम्मदीवारों का ऐलान कर दिया. अब बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा का कहना है कि एलजेपी केवल वोट कटवा पार्टी है. क्या संबित ये कहना चाह रहे है कि एलजेपी के अलग से लड़ने का फैसला इसीलिए हुआ है कि डेजीयू के वोट कट सके और बीजेपी की जीत तय होती जाए. हालांकि बिहार की बाजियों पर नजर डाले तो बीजेपी की चाले सचमुच बड़ी संदिग्ध दिख रही है. समझ नहीं आ रहा कि बीजेपी किसके साथ है और किसके खिलाफ. कुल मिलाकर इतना तो साफ है कि बीजेपी की सारी कवायद बिहार में अकेले बाजी जीतने के लिए चल रही है.

p

pp


Leave Comments