liveindia.news

आर पार के मूड में नीतीश, बुलाई सभी दलों की बैठक

आर पार के मूड में नीतीश, बुलाई सभी दलों की बैठक

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जातीय जनगणना को लेकर आर पार के मूड में है. सीएम नीतीश ने जातीय जनगणना कराने को लेकर 10 सदस्यीय मंडील के साथ बीते दिनों पीएम मोदी से मुलाकात की थी और राज्य में जातीय जनगणना कराने की गुहार लगाई थी. लेकिन बीते दिनों केन्द्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर कर कहा था की वह जातीय जनगणना के पक्ष में नही है. सरकार ने ये फैसला सोच समझकर लिया है.

ये भी पड़े - BJP से अलग होंगे CM नीतीश कुमार, JDU-RJD होगी एक!
ये भी पड़े - लालू आग बबूला, हिल गई बिहार से दिल्ली सरकार

केंन्द्र सरकार के इस हलफनामे के बाद से सूबे की राजनीति का सियासी पारा चढ़ गया है. मामले को लेकर बिहार की नीतीश कुमार सरकार को विपक्ष लगातार घेर रहा है. विपक्षी नेता चाहते है कि नीतीश कुमार जातीय जनगणना मामले में कोई कदम उठाए. इसी को लेकर सीएम नीतीश कुमार ने बड़ा कदम उठाया है. सीएम नीतीश ने मीडिया से कहा कि जातीय जनगणन जायज है. यह पिछडी जातियों के लिए कल्याणकारी योजनाए बनाने में मदद करेगा. नीतीश ने आगे कहा की हम अब बिहार में जातीया जनगणना मामले को लेकर एक सर्वदलीय बैठक बुलाएंगे.

ये भी पड़े - नीतीश के मंत्री मंगल पांडे की फोटो हुई वायरल
ये भी पड़े - बिहार छोडेंगे तेज प्रताप करेंगे उत्तरप्रदेश में राजनीति!

आर पार के मूड में नीतीश

बता दें कि नीतीश कुमार एकबार फिर पाला बदलने की तैयारी में दिख रहे है. बीजेपी के साथ उनके रिश्ते लगातार खराब होते जा रहे है. बीजेपी और जेडीयू के बीच जमीनी स्तर पर दूरियां साफ-साफ देखी जा रही है. केन्द्र सरकार की योजनाओं वाले कार्यक्रमों में जदयू के मंत्रियों को न्यौता तक नहीं दिया जा रहा है, तो वही जदूय नेता और विपक्ष बिहार में जातीय जनगणना कराने के पक्ष में है. लेकिन जदयू की सहयोगी पार्टी बीजेपी जनगणना के पक्ष में है. सर्वदलीय दल की बैठक बुलाकर नीतीश ने ये भी संकेत दिए है कि यदि इस मामले में विपक्ष का रूख सख्त होता है और बीजेपी कोई फैसला नहीं लेती है, तो जदयू के लिए मुश्किले हो सकती है. संकेत साफ है कि नीतीश कुमार बीजेपी से अलग होने का निर्णय ले सकते है.


Leave Comments