liveindia.news

लालू आग बबूला, हिल गई बिहार से दिल्ली सरकार

लालू आग बबूला, हिल गई बिहार से दिल्ली सरकार

बिहार में इन दिनों जातिगत जनगणना को लेकर राजनीति गर्म है. एक तरफ एनडीए में शामिल बीजेपी जदयू आमने सामने है, तो वही विरोधी दल लगातार केन्द्र सरकार पर हमला बोल रहे है. विरोधी दल केंद्र सरकार को पिछड़ा विरोधी बताने में लगी है. बीते गुरूवार को केन्द्र सरकार ने जातिगत जनगणना को लेकर सुप्रीम कोर्ट से मामले को लेकर कोई कदम नहीं उठाए जाने की अपील की है. केन्द्र सरकार ने कोर्ट से अपील क्या की राजद ने तो सरकार को पिछड़ा विरोधी बता दिया. 

दरअसल, केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर करते हुए कहा है कि सरकार पिछड़ी जातियों की जनगणना करवाने के लिए तैयार नहीं है, क्योंकि इससे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा. इसी को लेकर राजद प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव आग बबूला हो गए और एक ट्वीट करके केन्द्र सरकार पर अपनी भड़ास निकाल दी. लालू यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा है, जनगणना में सांप-बिच्छू, तोता-मैना, हाथी-घोड़ा, कुत्ता-बिल्ली, सुअर-सियार सहित सभी पशु-पक्षी पेड़-पौधे गिने जाएंगे, लेकिन पिछड़े-अतिपिछड़े वर्गों के इंसानों की गिनती नहीं होगी. वाह! बीजेपी- आरएसएस को पिछड़ों से इतनी नफ़रत क्यों? जातीय जनगणना से सभी वर्गों का भला होगा. सबकी असलियत सामने आएगी.

लालू ने दूसरे ट्वीट में लिखा है कि बीजेपी-आरएसएस पिछड़ा/अतिपिछड़ा वर्ग के साथ बहुत बड़ा छल कर रहा है. अगर केंद्र सरकार जनगणना फॉर्म में एक अतिरिक्त कॉलम जोड़कर देश की कुल आबादी के 60 फीसदी से अधिक लोगों की जातीय गणना नहीं कर सकती तो ऐसी सरकार और इन वर्गों के चुने गए सांसदों व मंत्रियों पर धिक्कार है. इनका बहिष्कार हो.


Leave Comments