liveindia.news

इतने इस्तीफे की संभाल नही पा रहे राहुल गांधी

बिहार विधानसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस के अंदर मचा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. कपिल सिब्बल के बाद पी चिदंबरम ने भी पार्टी आलाकमान के खिलाफ मोर्चा खोल लिया है. उनका कहना है की संगठन कमजोर है. ग्राउंड लेवल पर इसे मजबूत करने की सख्त जरूरत है. बिहार चुनाव के परिणामों के बाद कांग्रेस की स्टीयरिंग कमेटी की बैठक हुई, जिसमें बिहार में मिली हार पर चर्चा होनी थी. बैठक में आलाकामन के नेताओं को शामिल होना था. लेकिन बैठक में केवल 4 सदस्य ही मौजूद रहे. बैठक में केसी वेणुगोपाल, रणदीप सिंह सुरजेवाला, अंबिका सोनी, महासचिव मुकुल वासनिक बैठक में शामिल हुए.

बिहार के अलावा मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, गुजरात समेत कई राज्यों में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा. इससे पार्टी नेताओं के अलावा गठबंधन के नेता भी नाराज है और कांग्रेस को आत्मंथन करने की सलाह दे रहे है. सूत्रों से जानकारी मिली है की बिहार चुनाव में मिली हार के बाद पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी को फिर से एक पत्र लिखा है. साथ ही बिहार समेत पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी से इस्तीफा देने की इच्छा जाहिर भी की है. बिहार में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के बाद से पार्टी की समीक्षा की मांग और जिम्मेदार नेताओं के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग भी तेज हो गई है.

अपने खराब प्रदर्शन की समीक्षा के बाद से बिहार में लगातार कांग्रेस नेताओं ने अपना इस्तीफा देने की पेशकश शुरू कर दी है. जानकारी मिली है की पार्टी के कई बड़े नेताओं ने तो अपना इस्तीफा पार्टी हाईकमान को तक भेज दिया है. बिहार विधानसभा चुनाव प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मदनमोहन झा ने भी अपने इस्तीफे की पेशकश की है. हालांकी अबतक कोई इसपर अंतिम फैसला नहीं हुआ है. नेताओं का कहना है की चुनाव में टिकट बंटवारें की भी जांच होनी चाहिए, सूत्रों ने बताया है की बिहार समेत कई राज्यों से सैकड़ों इस्तीफे राहुल गांधी और सोनिया गांधी को भेजे जा चुके है. जिसके बाद से पार्टी आलाकमान इतने इस्तीफों को संभाल नहीं पा रही है. ऐसे में पार्टी की मुश्किले बढ़ना लाजमी है.


Leave Comments