liveindia.news

गांव में अपनी जान बचाकर भागा नीतीश का मंत्री!

गांव में अपनी जान बचाकर भागा नीतीश का मंत्री!

गांव में अपनी जान बचाकर भागा नीतीश का मंत्री!

बिहार में इन दिनों पंचायत चुनाव कराए जा रहे है. पंचायत चुनाव को लेकर नेताओं, विधायकों और मंत्रियों का चुनाव प्रचार अभियान जारी है. इसी कड़ी में नीतीश कुमार के एक मंत्री को एक व्यक्ति विशेष के पक्ष में वोट मांगना भारी पड़ गया. मामला बिहार के शेखपुर सदर प्रखंड के कोसरा पंचायत के जीयनबीघा गांव का है. जहां नीतीश सरकार के मंत्री श्रवण कुमार शेखपुर गांव पहुंचे थे. मंत्री श्रवण कुमार एक व्यक्ति विशेष के पक्ष में पहुंचे थे, लेकिन मंत्री जी को भारी पड़ गया और ग्रामीणें के आक्रोश को देखते हुए अपनी जान बचाकर वहां से भागना पड़ा.

लालू की वापसी से विरोधियों काे आया बुखार!

मिली जानकारी के अनुसार जीयनबीघा गांव के कुछ ग्रामीण उस समय भड़क उठे, जब नीतीश सरकार के मंत्री श्रवण कुमार गांव पहुंचे. श्रवण कुमार एक व्यक्ति विशेष के पक्ष में पहुंचे थे. लेकिन मंत्री जी को गांव आता देख ग्रामीणों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और ग्रामीणों ने मंत्री जी को खरी-खोटी सुनाना शुरू कर दिया. जब मंत्री जी ने देखा की ग्रामीण काफी आक्रोशि होते जा रहे है, तो उन्होंन गांव से निकल जाना ही ठीक समझा और वहां से निकल गए. 

ये भी पढ़े - आर पार के मूड में नीतीश, बुलाई सभी दलों की बैठक
ये भी पढ़े - BJP से अलग होंगे CM नीतीश कुमार, JDU-RJD होगी एक!

बताया जा रहा है कि मंत्री श्रवण कुमार दल-बल के साथ जियानबीघा गांव पहुंचे थे. लेकिन मंत्री जी के गांव में दाखिल होते ही उनके खिलाफ नारेबाजी होने लगी. ग्रामीणों ने मंत्री जी को खरी-खोटी सुनाना शुरू कर दिया. हालांकि मंत्री जी ने ग्रामीणों से बात करने की कोशिश की. लेकिन ग्रामीणों का गुस्सा सातवें आसमान पर था. किसी ने भी मंत्री जी की एक भी बात नहीं सुनी. दरअसल, गांव के लोग पंचायत में विकास कार्य नहीं होने को लेकर नाराज थे. ऐसे में एक व्यक्ति विशेष के पक्ष में मंत्री जी को गांव में आता देखकर गांव के लोग नाराज हो गए थे. 

ये भी पढ़े - आर पार के मूड में नीतीश, बुलाई सभी दलों की बैठक
ये भी पढ़े - BJP से अलग होंगे CM नीतीश कुमार, JDU-RJD होगी एक!

मंत्री जी ने दी सफाई 

नीतीश सरकार के ग्रामीण कार्य विभाग मंत्री श्रवण कुमार ने अपनी सफाई देते हुए कहा है कि वह अपने निजी काम से गांव में गए थे. वह JDU के पूर्व जिला अध्यक्ष की पत्नी की कुशलता जानने के लिए पहुंचे थे. उन्होंने आगे कहा कि उन्हें जीयनबीघा गांव से काफी लगाव है, इसलिए वह अचानक गांव पहुंचे थे. लेकिन ग्रामीणों के आक्रोश को देखते हुए वह गांव से जल्दी निकल गए. बता दें कि जीयनबीघा गांव के लोग मुखिया प्रतिनिधि निवास सिंह का विरोध काफी दिनों से कर रहे है.


Leave Comments