liveindia.news

मिल गया इलाज, लाल चींटियों की चटनी से खत्म होगा कोरोना!

छत्तीसगढ़ और उड़ीसा के इलाकों में खाई जाने वाली लाल चींटियों की चटनी से अब कोरोना महामारी का इलाज संभव हो सकता है. इसके लिए आयुष मंत्रालय ने काम भी शुरू कर दिया है. माना जा रहा है की लाल चींटियों की चटनी को कोरोना की दवा के रूप में इस्तेमाल किए जाने की मंजूरी आयुष मंत्रालय जल्द दे सकता है. बीते गुरूवार को इस मामले में उड़ीसा हाईकोर्ट ने आयुष मंत्रालय को तीन महीनों में फैसला लेने का आदेश दिया था. हाईकोर्ट ने यह फैसला एक याचिका पर सुनवाई के दौरान दिया है. 

जानकारी के अनुसार हाईकोर्ट ने आयुष मंत्रालय और काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च को लाल चींटियों की चटनी का कोरोना की दवा में उपयोग में लेने के लिए जल्द फैसला लेने को कहा है. बता दें की लाल चींटियों की चटनी का उड़ीस और छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में कई बीमारियों को दूर करने के लिए उपयोग में लाया जाता है.

इन राज्यों में रहने वाले जनजातियों के लोग सर्दी, बुखार, सांस लेने में परेशानी जैसी बीमारियों में लाल चींटियों की चटनी का उपयोग करते है. इस खास चटनी में हरी मिर्च का भी उपयोग किया जाता है. यह भी बता दें की इस खास चटनी में विटामिन बी, फॉर्मिक एसिड, प्रोटीन, केल्शियम और आयरन होता है. उड़ीसा हाई कोर्ट में जनहित याचिका बारीपाड़ा के इंजीनियर नयाधार पाढ़ियाल ने दायर की थी. पाढ़ियाल ने जून माह में कोरोना से निजात पाने के लिए लाल चींटियों की चटनी का इस्तेमाल करने की बात कही थी, लेकिन उनकी बात को दरकिनार कर दिया गया था. इसके बाद उन्होंने याचिका दाखिल की थी.


Leave Comments