liveindia.news

पंजाब कैबिनेट मंत्री रजिया सुलताना ने दिया मंत्री पद से इस्तीफा

पंजाब कैबिनेट मंत्री रजिया सुलताना ने दिया मंत्री पद से इस्तीफा

पंजाब कैबिनेट मंत्री रजिया सुलताना ने दिया मंत्री पद से इस्तीफा

पंजाब कांग्रेस में इस्तीफों का भूकंप आ गया है. पंजाब सरकार की कैबिनेट मंत्री रजिया सुलताना ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. रजिया सुलताना नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार की पत्नी है. रजिया सि़द्धू की करीबी भी मानी जाती है. पंजाब सरकार में रजिया सुलताना जलापूर्ति एवं स्वच्छता और महिला एवं बाल विकास मंत्री थी. रजिया सुलताना ने इस्तीफा देने के बाद कहा है कि उन्हें पता था की कुछ गड़बड होने वाली है. सिद्धू असूलों के आदमी है, उनको कोई लालच नही है. वही सीएम चरणजीत सिंह चन्नी को भेजे गए इस्तीफे में रजिया ने कहा है कि वह सिद्धू के समर्थन में मंत्री पद से इस्तीफा दे रही हैं. लेकिन वह पार्टी में कार्यकर्ता के रूप में अपना काम जारी रखेंगी.

यह भी पढ़े - अमरिंदर सिंह आज होंगे बीजेपी में शामिल!
यह भी पढ़े - नवजोत सिंह सिद्ध ने दिया पंजाब कांग्रेस से इस्तीफा

बता दें कि पंजाब कांग्रेस में सियासी बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है पहले तो पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू अपने पद से इस्तीफा देकर कांग्रेस को झटका दे दिया इसके बाद पंजाब कांग्रेस के कोषाध्यक्ष गुलजार इंदर सिंह चहल ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है सिद्धू ने इस्तीफा देते हुए कहा है कि वह कांग्रेस मे बने रहेंगे. सिद्धू ने सोनिया गांधी को एक पत्र लिखते हुए पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया है. सिद्धू ने अपने इस्तीफे में कहा है कि समझौते से इंसान का पतन हो जाता है. मैने पार्टी के भविष्य और राज्य की भलाई से कभी समझौता नहीं किया है और में नहीं कर सकता. इसलिए में अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं. में पार्टी के लिए काम करता रहूंगा. सूत्रों का कहना है कि सिद्धू ने नाराजगी की वजह से अपने पद से इस्तीफा दिया है. 

यह भी पढ़े - अमरिंदर सिंह आज होंगे बीजेपी में शामिल!
यह भी पढ़े - नवजोत सिंह सिद्ध ने दिया पंजाब कांग्रेस से इस्तीफा

दरअसल, जब पंजाब में किसे मंत्री बनाया जाए तब राहुल गांधी ने सीएम चन्नी से बात करके फैसला लिया. लेकिन इस मामले में नवजोत सिंह सिद्धू को शामिल नहीं किया गया. इसके बाद जब राहुल गांधी शिमला से लौटकर आए थे तो मीटिंग में भी सिद्धू को बुलाया गया. सूत्रों का कहना है कि सिद्धू अपने कुछ लोगों को मंत्रिमंडल में जगह दिलाना चाहते थे, लेकिन उनकी बात को नहीं सुना गया. जिसके चलते वह नाराज चल रहे थे.


Leave Comments