liveindia.news

महाप्रदर्शन : अपनी मांगों पर अड़े किसान

केंद्र के कृषि कानून को लेकर प्रदर्शन कर रहे पंजाब और हरियाणा के किसान लगातार तीसरे दिन दिल्ली हारियाणा की बाॅर्डर पर डटे हुए है. किसानों का आक्रोश उस समय देखने को मिला. जब उनका सामना दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर प्रशासन से हुआ. किसानों को बाॅर्डर पार करने से रोकने के लिए प्रशासन द्वारा वाटर कैनन का उपयोग किया. साथ ही उनपर आंसू गैस के गोले दागे गए, लेकिन किसानोें का आक्रोश नहीं थमा.

हालांकी दिल्ली पुलिस ने किसानों को दिल्ली में एंट्री दे दी है. वही किसानों का एक गुट सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर डेरा डाले हुआ है. किसानों के गुट का कहना है की सरकार खुद बाॅर्डर पर आकर उनके बात करें. साथ ही किसानों ने दिल्ली के राम लीला मैदान या फिर जंतर मंतर पर प्रदर्शनक करने की अनुमति की मांग कर रहे है. वही प्रशासन ने किसानों को प्रदर्शन करने के लिए दिल्ली में आने की अनुमति दे दी है और बुराड़ी के निरंकारी समागम ग्राउंड पर प्रदर्शन की जगह देने की बात कही है.

खबरों के अनुसार बताया जा रहा है की आज किसानों ने एक बैठक आयोजित कर बड़ा फैसला लेते हुए कहा है की वे वहां से नहीं हटेंगे, वह प्रदर्शन करते रहेंगे. किसानों के उग्र प्रदर्शन को देखते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक ट्वीट करते हुए कहा है की वह केंद्र सरकार से बातचीत के लिए हमेशा तैयार है. मेरी सभी किसान भाइयों से अपील है कि अपने सभी जायज मुद्दों के लिए केंद्र से सीधे बातचीत करें. आंदोलन इसका जरिया नहीं है, इसका हल बातचीत से ही निकलेगा.


Leave Comments