liveindia.news

किसानों का हंगामा, दिल्ली पूरी तरह से सील

देश की राजधानी दिल्ली से लगी बाॅर्डरों पर कृषि कानून के खिलाफ सड़कों पर डेरा डाले हुए किसानों का अबतक विरोध प्रदर्शन जारी है. बीते हफ्ते से दिल्ली की सीमाओं पर हजारों की संख्या में किसानों का जमाबड़ा डटा हुआ है. किसानों और केंन्द्र सरकार के बीच बातचीत भी हुई, लेकिन कोई हल नहीं निकला. किसान अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए है. किसानों ने साफ कह दिया है की जबतक हमारी मांगों को नहीं माना जाएगा, तबतक हमारा आंदोलन जारी रहेगा. सरकार को कानून वापस लेना होगा. 

किसानों ने सरकार की बात मानने से साफ इनकार कर दिया है. दिल्ली की सिंधु बाॅर्डर, टिकरी बाॅर्डर, गाजीपुर बाॅर्डर सहित अन्य बाॅर्डरों पर किसानों ने अपना डेरा जमा रखा है. किसानों के आंदोलन में दिन प्रतिदिन किसानों की संख्या भी बढ़ने लगी है. वही पंजाब और हरियाणा के किसानों ने दिल्ली कूच करने की बात तक कही है. मंगलवार को करीब 35 किसान संगठनों की केंन्द्र सरकार के बीच एक बैठक हुई थी. जिसमें कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल सहित कई अधिकारी मौजूद रहे. बैठक में किसानों को एमएसपी पर प्रेजेंटेशन दी गई साथ ही कानून संबंधी जानकारी दी गई. लेकिन किसानों का एक ही सवाल रहा की कानून को वापस लिया जाए. जबतक कानून वापस नहीं होगा तबतक किसानों का प्रदर्शन जारी रहेगा. जानकारी मिली है की अब तीन दिसंबर को किसानों और सरकार के बीच फिर बैठक होगी.

किसान आंदोलन के चलते ट्रेन सेवाओं पर भी पड़ रहा है. उत्तरी रेलवे ने अमृतसर और पंजाब के बीच चलने वाली कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है, तो कुछ ट्रेनों का शार्ट टर्मिनेट, रूट डायवर्ट किया गया है. उत्तरी रेलवे ने अजमेर-अमृतसर एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन को रद्द कर दिया है. वही अमृतसर- अजमेर स्पेशल ट्रेन को भी रद्द कर दिया है. इनके अलावा, डिब्रूगढ़-अमृतसर एक्सप्रेस ट्रेन को भी रद्द कर दिया है.


Leave Comments