liveindia.news

निर्भया की मां आज भी लड़ रही इंसाफ की लड़ाई

देश की राजधानी दिल्ली का चर्चित गैंगरेप और निर्भया हत्याकांड की कहानी सुनकर आज भी लोगों की रूह कांप जाती है. आज ही के दिन निर्भया को हैवानों ने अपनी दरिंदगी का शिकार बनाया था. आज निर्भया गैंगरेप और हत्याकांड के 8 साल पूरे हो चुके है. इसी मौके पर आज अपने कलेजे के टुकड़े को खो चुकी निर्भया की मां का दर्द फिर छलक आया. 

निर्भया की मां ने अपनी बेटी को याद करते हुए कहा है की अपनी बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए आठ साल लड़ाई लड़ी है. आज 8 साल पूरे हो चुके है, लेकिन 2012 या 2020 एक जैसा लगात है. निर्भया की मां आशा देवी ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा की मेरी बेटी को इंसाफ मिल गया और दरिंदों का सजा भी हो गई. लेकिन यह दुख मेरे लिए हमेशा रहेगा. लेकिन आज से में दूसरी लड़ाई लड़ने जा रही हूं. उन्होंने कहा की जिस तरह से निर्भया के लिए पूरा देश एकजुट हुआ, लोगों मिलकर इंसाफ के लिए आवाज उठाई, मीडिया ने मेरी बेटी को देश की बेटी माना, इसलिए में देश की बेटियों के लिए आग भी अपनी लड़ाई जारी रखूंगी.

निर्भया की मां ने आगे कहा है की हमारे कानून में कुछ कमियां थी, जिसका फायदा आरोपी के वकीलों ने उठाया. जिसके चलते पिछले साल फांसी की तारीख टलती रही. जिससे हमारे संविधान पर कई सवाल उठने लगे. इसके बावजूद भी कई घटनाएं देशभर में हुई, लेकिन कानून में कमियां कहा है, इस पर बात नहीं की गई. ना ही कोई नेता ने बात की और ना ही सरकार ने की. यह सारी बात आशा देवी ने देश के सबसे बड़े न्यूज चैनल एबीपी न्यूज से कहीं है. उन्होंने देश की मीडिया को निर्भया मामले में इंसाफ दिलाने में जो मदद की उसके लिए धन्यवाद किया. 

आशा देवी ने आगे कहा है की आज भी हमारी दिल्ली सुरक्षित नहीं है, लेकिन आरोपियों को फांसी होने से कुछ जागरूकता आई है. लेकिन बहुत कुछ करने की जरूरत है, बदलाव की जरूरत है. खासकर हमारी कानून और पुलिस व्यवस्था में. जिस दिन हमारी कानून व्यवस्था और पुलिस व्यवस्था सही हो जाएगी, वह दिन दूर नहीं हमारे देश की बेटियां सुरक्षित हो जाएंगी.


Leave Comments