liveindia.news

शाहीन बाग़ मामले पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

दिल्ली डेस्क : पिछले साल देश भर में सीएए और एनआरसी बिल के विरोध  में कई जगह धरना प्रदर्शन हुआ था. लेकिन सबसे ज़्यादा इस बिल का विरोध राजधानी दिल्ली के शाहीन बाग़ में देखने को मिला था. शाहीन बाग़ में सीएए विरोधी आंदोलन के दौरान सड़क रोक कर बैठी भीड़ को हटाने के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने आज बड़ा फैसला सुनाया है. 

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि, सार्वजनिक स्थानों पर धरना प्रदर्शन करना सही नहीं है. इससे कई लोगों को परेशानी हो सकती है. कोई भी शख्स या फिर कोई भी समूह किसी प्रदर्शन के नाम पर पब्लिक प्लेस पर बाधा उत्पन्न है कर सकता है, और ना ही जगह को ब्लॉक कर सकता है.  

पुलिस को करनी चाहिए थी कार्रवाई 

सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए कड़े शब्दों में यह भी कहा है कि, शाहीन बाग़ इलाके से लोगों की भीड़ को हटाने के लिए दिल्ली पुलिस को कार्रवाई करनी चाहिए थी. शाहीन बाग़ राजधानी का काफी अच्छा इलाका है, ऐसे स्थानों पर किसी भी तरह का विरोध प्रदर्शन का फिर आंदोलन बिलकुल भी नहीं स्वीकारा जा सकता है. प्रशासन को खुद कार्रवाई करनी होगी और वे अदालतों के पीछे चिप नहीं सकते. लोकतंत्र और असहमति साथ-साथ चलते हैं'. 

 


Leave Comments