liveindia.news

बड़ी खबर : दिल्ली में आतंकियों से मुठभेड़, दो आतंकी गिरफ्तार

देश की राजधानी दिल्ली पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है. दिल्ली पुलिस और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद पुलिस ने दो आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया है. दोनो आतंकी, आतंकी संगठन बब्बर खालसा के सदस्य है. दोनों आतंकियों के नाम दिलावर सिंह और किलवंत सिंह बताए जा रहे है. खबरों के अनुसर बताया जा रहा है की दोनाें आतंकिया के टारगेट पर दिल्ली और पंजाब के कई बड़े नेता थे. मुठभेड़ के बाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने आतंकियों से छह पिस्तौल और गोलियां बरामद की है.

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने दो खालिस्तानी आतंकियों को गिरफ्तार किया था. दोनों आतंकियों की पहचान इंद्रजीत गिल और जसपाल सिंह के रूप में हुई थी. दोनों आतंकियों ने पंजाब के मेगा में कलेक्टर कार्यालय में 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के मौके पर खालिस्तानी झंडा फहराया था. 

इससे पहले दिल्ली में स्थित संसद भवन के पास से पुलिस ने एक संदिग्ध शख्स को हिरासत में लिया था. शख्स के पास से एक चिट्ठी भी मिली थी, जिसमें जो कोडवर्ड में लिखी गई थी. हिरासत में लिया गया शख्स जम्मू के बडगाम का रहने वाला था. शुरूआती पूछताछ में युवक अगल-अलग जानकारी दे रहा था. युवक को संसद के पास विजय चैक से हिरासत में लिया गया था.

इससे पहले दिल्ली की स्पेशल सेल ने एक आतंकी अबू युसूफ को गिरफ्तार किया था. पुलिस आर्मी स्कूल के पास मोटरसाइकिल से आतंकी का पीछा कर रही थी. लेकिन आतंकी ने पुलिस को पीछा करते देख मोटरसाइकिल पर बैठे एक शख्स ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी. जिसके बाद पुलिस ने भी आतंकियों पर फायरिंग की, लेकिन पुलिस ने सूझबूझ के साथ आतंकी दबोच लिया. पुलिस ने आतंकी से 2 प्रेशर कूकर आईईडी और एक पिस्टल बरामद की थी आतंकी किसी बड़ी हस्ती को निशाना बनाना चाहता था और कोई बड़ा धमाका करने की फिराक में था पुलिस ने आतंकी के घर से आपत्तिजनक साहित्य और उसके घर के पास स्थित तालाब से मानव बम में उपयोग की जाने वाली दो जैकेट भी बरामद की थी. पुलिस आतंकी से लगातार पूछताछ कर रही है. 

पुलिस की पूछताछ में यूसुफ ने बताया की उनकी अयोध्या में राममंदिर शिलान्यास के एक महीने के अंदर आतंकी हमला करने की योजना थी, इसके लिए यूसुफ दिल्ली के कई इलाकों का मुआयना कर चुका है. युसूफ 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के दिन भीड़ वाले इलाके में बड़ा हमला करने की फिराक में था, लेकिन भारी सुरक्षा व्यवस्था होने के चलते वह हमला नहीं कर पाया.


Leave Comments