liveindia.news

Ganesh Visarjan 2021 : इस मंगलकारी तरीके से दें बप्‍पा को विदाई

Ganesh Visarjan 2021 : इस मंगलकारी तरीके से दें बप्‍पा को विदाई

देशभर में इस वक्त गणेशचतुर्थी की धूममची हुई है. हालांकि कोरोना काल में गणेशउत्सव में कुछ पाबंदियां जरूर है, लेकिन यह पर्व पूरे देश में मनाया जा रहा है. गणेचतुर्थी का पर्व 10 दिनाें तक मनाया जाता है. भगवान गणेश की पूजा विधि विधान करने से भक्तों को बप्पा का आशीर्वाद मिलता है और कष्टों से मुक्ति मिलती है. कोरोना के चलते इसबार गाणेश जी की प्रतिमा को सबसे ज्यादा घरों में स्थापित किया गया है. जिसके चलते घरों में दीवाली जैसा माहौल है.

लेकिन अब भगवान श्रीगणेश को विसर्जन (Ganesh Visarjan 2021) करने का समय भी नजदीक आ गया है, तो आज हम आपकों विसर्जित (Ganesh Visarjan 2021) करने से पहले की जाने वाली पूजा-विधि बताने जा रहे है. ताकि कोरोना काल में बप्पा की विदाई मंगलकारी तरीके से हो. मंगलकारी तरीके से विसर्जन (Ganesh Visarjan 2021) होने पर बप्पा आपसे प्रसन्न होंगे और आपको बप्पा की कृपा हमेशा बनी रहेगी.

गणेश विसर्जन पूजा विधि

विसर्जन करने से सबसे पहले घर की महिलाएं एक लकड़ी के पाटे पर गंगाजल छिड़कर उसपर स्वास्तिक बनाएं. उसमें अक्षत डाले और लाल रंग का कपड़ा बिछा दें. इसके बाद बप्पा की प्रतिमा को रख दें. लकड़ी के पाटे पर प्रतिमा रखने के बाद श्रीगणेश भगवान को मोदक का भोग लगाए साथ में फूल माला भी पहनाएं. इसके बाद विधिवत बप्पा की पूजा करे आरती गाए. हो सकते तो बप्पा को नए वस्त्र जरूर पहनाएं.

जब बप्पा को विसर्जन (Ganesh Visarjan 2021) के लिए ले जाए तो उससे पहले एक रेशमी कपड़े में मोदक, दूर्वा और सुपारी को बांध कर एक पोटली बनाकर बप्पा के पास रख दे और सभी गनपति बप्पा मोरिया रे के जायकारे लगाएं. जब बप्पा का विसर्जन कर रहे हो तो उससे पहले सभी लोग मिलकर बप्पा से क्षमा मांगे और कहे की हमसे पूजा करने में कोई गलती हो तो हमे अज्ञानी समझकर छमा करें. जिसके बाद बप्पा को समान के साथ जल में प्रवाह कर दे. 

विसर्जन का शुभ मुहूर्त

इस बार गणपति विसर्जन (Ganesh Visarjan 2021) 19 सितंबर को है. विसर्जन का शुभ मुहूर्त सुबह 07 बजकर 39 मिनट से दोहपहर 12 बजकर 14 मिनट है. इसके बाद दोपहर 1 बजकर 46 से 3 बजकर 18 मिनट और शाम को 6 बजकर 21 मिनट से रात 10 बजकर 46 मिनट तक है.


Leave Comments