liveindia.news

जगन्नाथ यात्रा पर कोरोना का असर, ऐसे निकलेगी यात्रा

देश में कोरोना वायरस महामारी फैली हुई है. हर राज्य, हर शहर में स्थितियां खराब है. इस महामारी का असर इस साल अभी तक के सारे तीज त्योहारों पर भी पड़ा है. हर धर्म के त्योहारों में इस साल रौनक नहीं है. कोरोना के संक्रमण का असर इस साल की जगन्नाथ की यात्रा पर भी पड़ा है. उड़ीसा में कोरोना का संक्रमण काफी तेज़ी से फ़ैल रहा है, यहां पर संक्रमितों की संख्या में लगता इजाफा हो रहा है. इसी को लेकर इस बार जगन्नाथ भगवान की यात्रा भी कुछ सावधानियों के साथ निकाली जाएगी. 

आपको बता दें की यात्रा के लिए रथ का निर्माण अक्षय तृतीया से हुआ शुरू हो जाता है. इस बार भी रथ का निर्माण शुरू किया जा चुका है, तैयारी भी चल रही हैं. लेकिन उड़ीसा में 30 जून तक सभी धार्मिक स्थल बंद रखने के निर्देश दिए जा चुके हैं, वहीं जगन्नाथ मंदिर के पट भी 5 जुलाई तक भक्तों के लिए बंद रखे जाएंगे. यहां पर ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन स्नान उत्सव मनाने की परंपरा हैं. इस उत्सव में भगवान जगन्नाथ को कई तीर्थ स्थानों के जल में सुगंध मिलाकर स्नान कराया जाता हैं. लेकिन इस बार स्नान यात्रा मंदिर के अंदर ही आयोजित की जाएगी. इसमें शामिल होने वाले सेवकों का पहले कोरोना टेस्ट किया जाएगा, रिपोर्ट नेगेटिव आने पर ही इन्हे शामिल किया जाएगा.

इस बार मंदिर प्रशासन और केंद्र सरकार ने मिलकर यह फैसला किया है की इस बार आम भक्तों को शोभा यात्रा में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी. साथ ही जहां से रथ खींचा जाता हैं वहां पर केवल मंदिर की समिति और सुरक्षाबलों को आने दिया जाएगा. वहीं इस यात्रा का प्रसारण हर बार की तरह दूरदर्शन से किया जाएगा. 


Leave Comments