liveindia.news

कृष्ण जन्माष्टमी आज, इस पूजा विधि से पूरी होगी हर मनोकामना

धर्म : श्री कृष्ण के धरती पर जन्म लेने के दिन को आज पुरे देश भर में जन्माष्टमी के रूप में धूमधाम से मनाया जाएगा.  हर साल की तरह इस साल भी जन्माष्टमी दो दिन मनाई जाएगी 11 और 12 अगस्त. देश में कई लोगों ने कल ही जन्माष्टमी मना ली है तो कुछ लोग आज यानी की 12 अगस्त को जन्माष्टमी का पर्व मनाएंगे. जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण की पूजा कुछ अलग तरीके से की जाती है, जिससे साड़ी मनोकमनाएं पूरी होती हैं. आइये आपको बताते हैं की जन्माष्टमी पर आपको किस तरह से भगवान श्री कृष्ण की पूजा अर्चना करनी है.

इस तरह करें जन्माष्टमी पर श्री कृष्ण की पूजा 

सबसे पहले चौक पूर्ण लें और उसके ऊपर भगवान कृष्ण के स्नान के लिए एक पात्र रखें.
अब भगवान कृष्ण को सबसे पहले पंचामृत से स्नान करवाएं उसके बाद गंगाजल से स्नान कराएं. 
अब भगवान कृष्ण की मूर्ति को साफ़ कपड़े से पोछकर उन्हें नए वस्त्र पहनाएं मुकुट, मोर पंख, माला, कंगन पहनाएं और पूरा श्रृंगार करे.

इसके बाद घी का दिया भगवान सामने लगाकर धुप जलाएं .इसके बाद भगवान कृष्ण को चन्दन या रोली का ही तिलक लगाएं जिसमे अक्षत मिला हो .अब आखिर में भगवान कृष्ण को उनका मन पसंद भोग लगाएं जैसे की माखन मिश्री, पंजीरी ,या फिर लड्डू हर भोग में तुसली का पत्ता ज़रूर मिलाएं .इसके साथ ही भगवान कृष्ण की आरती करें और अपनी मनोकामनएं श्री कृष्ण से कहें .

जन्माष्टमी मनाने का महत्त्व 

जन्माष्टमी के पर्व को हिन्दू धर्म में काफी अहम् माना जाता है. ऐसा कहा जाता है की इस दिन भगवान विष्णु ने कृष्ण के रूप में धरती पर मानव अवतार में जन्म लिया था. भाद्रपद कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि की रात 12 बजे श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था. इसलिए जन्माष्टमी पर दिन भर का व्रत रखके रात में भगवान के जन्म होने के बाद ही व्रत खोला जाता है. 

देखिये मथुरा की मंगला आरती 

जन्माष्टमी का त्यौहार वैसे तो पुरे देश भर में ही मनाया जाता है, लेकिन श्री कृष्ण के जन्मस्थान मथुरा में जन्माष्टमी पर अलग ही नज़ारा देखने को मिलता है. मथुरा में भी आज यानी की 12 अगस्त को ही जन्माष्टमी मनाई जाएगी, इसलिए आज सुबह मथुरा के मंदिर में मंगला आरती की गई. देखिये मथुरा की मंगला आरती का यह वीडियो.


 


Leave Comments