liveindia.news

सफल पूजा का सबसे बड़ा मंत्र, करे इस मंत्र का जाप

सुबह सुबह हम सभी पूजा करते है. लेकिन पूजा के साथ-साथ हमे किन बाताें का ध्यान रखना होता है कि पूजा का सही फल मिल सके. हम आपको बताते है कुछ ऐसे टिप्स जिससे पूजा का सही फल मिल जाएगा साथ ही बताते है कि पूजा में दीपक और बाती कैसे लगाए कैसे रखे कि आपकी पूजा सफल रहे.

पूजा की शुरूआत में सबसे पहले दीपक जलाए. बल्कि कहे कि पूजा की शुरूआत दीपक जलाकर ही होती है. दीप जलाते समय ध्यान रखे कि आपका दीपक कही से खंडित न हो. खंडित दीपक से पूजा का फल नही मिलता इसलिए सबसे पहले सही दीपक का चयन करें. दीपक जलाने के बाद सही दिशा का चयन करे सही दिशा और सही दीपक के बाद बारी आती है कि आप किस चीज का दीपक लगा रहे है. मतलब घी का या तेल का. अगर आप तेल का दिया लगा रहे है तो ध्यान रहे कि तेल के दिए में रूई की जगह मौली का प्रयोग करे. तेल के दिए को भगवान के दांए हाथ की तरफ रखे और अगर आप घी का दिया लगाते है तो घी के दिए में केवल और केवल भगवान के मुख के सम्मुख ही रखे. मुंह के सम्मुख दिया लगाए और घी के दिए में रूई की ही बत्ती का प्रयोग करें.

जो भी दिया लगाए याद रहे कि पूजा खत्म होने के बाद भी वो कम से कम आधा घंटा तक जलता रहे. दिया लगाते समय इस मंत्र का जाप करें.

शुंभ करोति कल्याणं आरोग्यं धन संपदा !!
दुष्टि बुद्दि विनाशाय दीप ज्योति नमोस्तुते !!

इस मंत्र का जाप तीन बार करें और ध्यान रहे कि मंत्र का जाप दिया लगाकर ही करें. पूजा में अगर आप दिया नही लगा पाते है तो धूप बत्ती के साथ भी पूजा की जा सकती है और इस मंत्र का जाप किया जा सकता है. लेकिन ध्यान रहे कि कभी भी पूजा में अगरबत्ती न लागाए क्योकि शास्त्राें में केवल और केवल धूपबत्ती और दिया का ही प्रयोग करना चाहिए.


Leave Comments