liveindia.news

Corona काल में ऐसे करे राम नवमी की पूजा

21 अप्रैल 2021 को रामनवमी का त्यौहार मनाया जाएगा. मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम का जन्मदिन रामनवमी के रूप में मनाया जाता है. रामनवमी चैत्र माह के नवरात्र के नवें दिन मनाई जाती है. इसी दिन अयोध्या में राजा दशरथ के यहां कौशल्या ने भगवान श्रीराम को जन्म दिया था. राम नवमी के मौके पर भगवान श्रीराम की पूजा की जाती है. शास्त्रों के अनुसार भगवान श्री राम ने धरती पर अत्याचारों को खत्म करने के लिए जन्म लिया था. इसीलिए भगवान श्रीराम को मर्यादापुरूषोत्त्म, विष्णु का अवतार माना जाता है.

हिंदु धर्म के शास्त्र राम चरित मानस के अनुसार भगवान श्री राम का जन्म दिन के 12 बजे हुआ था. रामचरितमानस की रचना तुलसीदास ने की थी. उसी दिन से राम नवमी का त्यौहार मनाया जाता है. राम नवमी के दिन भगवान श्रीराम की पूजा करने से लाखों पाप दूर होते हैं. व्यक्ति के जीवन में आने वाली बाधाएं दूर होती हैं, घर में सुख शांति बनी रहती है. अगर आप अपने जीवन में सुख शांति और वर्तमान में तेजी से फैल रही कोरोना महामारी से निजात चाहते हैं तो 21 अप्रैल 2021 को रामनवमी की पूजा जरूर करें.

कोरोना काल में घर में ऐसे करें पूजा

रामनवमी 21 अप्रैल 2021 को है. इस दिन सुबह-सुबह पहले स्नान करें. स्नान करने के बाद घर में पूजा स्थल पर आसन और पूजन सामग्री लगाएं, भगवान श्रीराम की पूजा में तुलसी के पत्ते होना चाहिए. इसके लिए पूजा में तुलसी के पत्ते जरूर रखें, क्योंकि तुलसी के पत्तों से भगवान श्रीराम प्रसन्न होते हैं. पूजा में रोली, धूप, गंध और चंदन से पूजा करें. भगवान को प्रसाद में हो सके तो खीर अर्पित करें. भगवान को दीपक लगाएं और परिवार के साथ मिलकर भगवान श्रीराम की आरती करें. आरती करने के बाद परिवार के सदस्यों को तिलक लगाएं और प्रसाद दें. रामनवमी के मौके पर रामायाण जी का पाठ करना बहुत ही शुभ माना जाता है, हो सके तो रामायाण जी का पाठ करें.

 


Leave Comments