liveindia.news

वेटिकन सिटी मतलब शिव का शहर

इतिहासकार और धर्म के जानकार इस बात का दावा करते रहे है कि दुनिया का सबसे पुराना धर्म सनातन धर्म है और सनातन धर्म में सबसे ज्यादा पूजे जाने वाले देवता शिव है. आमतौर पर ये माना जाता है कि शिव ही वो आदि देवता है जो विश्व में उनके सबसे ज्यादा भक्त है. लेकिन आज हम आपको बताने जा है एक ऐसे रिसर्च के बारे में जिसे पी एन ओक इतिहासकार ने किया है. ओक ने दावा किया है कि ईसाई और इस्लाम धर्म हिंदू धर्म के ही यौगिक है. ओक की माने तो काबा और ताजमहल के साथ-साथ वेटिकन सिटी का भी सनातन धर्म के कनेक्शन है. इसके लिए उन्होंने एक तर्क भी दिया.

आइए बताते है आपको क्या और कैसे पी एन ओक अपनी बातो को तर्क दे रहे हैं. सबसे पहले बात करते हैं वेटिकन सिटी की बनावट की. ध्यान से देखे वेटेकन सिटी की डिजाइन और शिवलिंग की डिजाइन. वेटिकन सिटी की बनावट शिवलिंग की ही तरह है. शिवलिंग पर जो त्रिपुण्डी होती है वो वेटिकन के पियाजा सेंट पेट्रो के रूप में बना है. ओक के मुताबिक वेटिकन का नाम कहीं न कहीं हिंद के वाटिका ही है और ईसाई का अब्राहम ब्रहमा ही है. ओक मानते है कि दुनिया के सारे धर्म चाहे हिंदू हो, मुस्लिम हो, सिख हो या ईसाई सभी सनातन धर्म से बने हैं. इन धर्म की नीतिया भी वैदिक ही है वेटेकन का नाम वैदिक केंद् से मिलता है और वेटेकन की खुदाई के समय एक शिवलिंग भी मिला था जिसे ग्रीक गोरियन म्युजियम में रखा गया है. ओक के रिसर्च के मुताबिक इसाई धर्म भी सनातन धर्म था जो कृष्ण नीति पर आधारित था जिसे बाद में क्रिश्चयनेटि बोलने लगे.


Leave Comments