liveindia.news

पहनने वाली टी-शर्ट इतनी खतरनाक, जानिए

एक टी-शर्ट पर्यावरण के लिए कितनी खतरनाक हो सकती है. आपकी पसंद की टी-शर्ट सस्ते दम में मिल जाए तो क्या बात है, लेकिन इसकी असली किमत पर्यावरण को चुकानी होती है. रूई एकल फसल की तरह उगाई जाती है. जिसकी सिंचाई में बहुत पानी की जरूरत पड़ती है. एक टी-शर्ट बनाने के लिए 2500 लीटर पानी चाहिए होता है.

दुनिया में इस्तेमाल होने वाले कुल कीटनाशकों का 16 प्रतिशत रूई के खेतों में काम आता है और इनमें पाए जाने वाले जहरीले रसायन पानी को प्रदूषित करते है और फिर टी-शर्ट बनाने में उर्जा की भी भारी खपत होती है. रूई से धागे बनाने के लिए बिजली भी तो चाहिऐ ही और उत्पाद के हालात को भी देखिए कपड़ा उद्योग में 80 प्रतिशत कामगार महिलाए है, जो कम पैसे में ज्यादा काम करती है. आपकी टी-शर्ट इतनी सस्ती इसलिए होती है, क्योंकि उसे बनाने वालों को बहुत ही कम पैसे मिलते है. उत्पादन के बाद ये टी-शर्ट दुनिया भर में ट्रांसपोर्ट की जाती है. 1 टी-शर्ट पर करीब 11 किलोग्राम CO2 का उत्सर्जन होता है. इसलिए जब आप अगली बार टी-शर्ट खरीदने जाएं तो जरूर सोचे क्या बाकई आपकों इसकी जरूरत है.


Leave Comments