liveindia.news

सुहागरात पर पति-पत्नी क्यों खिलाया जाता है पान, जानिए

पान खाना आज के दौर में चलन सा हो गया है. प्राचीन समय में राजा-महाराज भी पान के शौक रखते थे. आज कल के दौर में भी अतिथि सत्कार में पान से स्वागत किया जाता है. पान इसांन के मुंह की दुर्गंध को दूर करता है, साथ ही पान के पत्ते में कई औषिध गुण होते जो शरीर के लिए लाभदायक होता है. पान खाने से सेक्स पावन को भी बढ़ावा मिलता है. जब पति-पत्नी की पहली रात यानि की सुहागरात होती है तो दोनों को पान खाने के लिए दिया जाता है. लेकिन क्यों दिया जाता है, यह हम आपकों आज बताते है.

विशेषज्ञयों के अनुसार सुरहागरात की पहली रात को यादगार बनाने के लिए पान का उपयोग किया जाता है. क्योंकि पान में ऐसे तत्व होते है जो दोनों की उत्तेजना को बढ़ाने में मदद करते है. इतना ही नही कई बिमारियों की वजह से मुंह से दुर्गंध आने लगती है, दुर्गंध से निजात पाने के लिए पान का सहारा लिया जाता है. क्योंकि पान के पत्तों में बैक्टीरिया पाए जाते है. जो मुंह की दुर्गंध को कम करते है.

कई लोग पान को माउथ फ्रेशनर के रूप में भी उपयोग करते है. पान चवाना पाचन क्रिया में भी सहायक होता है, क्योंकि पान चबाने से लार ग्रंथि पर असर होता है और पान चाबाने से लार बनती है, जो पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद है. पान के सेवन से शरीर में बनने वाली गैस, अल्सर और कई बीमारियों को दूर करने में सहायक भी होता है.


Leave Comments