गीला और गंदा मास्क पहनने से हो सकता है ब्लैक फंगस

कोरोना महामारी के कहर के बीच एक और खतरनाक बीमारी ने जन्म ले लिया है, जिसे ब्लैक फंगस बताया जा रहा है. देश के हिस्सों में ब्लैक फंगस की चपेट में आने से कई लोगों की मौतें हो चुकी है. सबसे ज्यादा मौते मध्यप्रदेश में होना बताया जा रहा है. कोरोना से जूझ रहे मरीजों में अब ब्लैक फंगस के लक्षण दिखाई देने लगे है, कोरोना से पीडीत मरीज पहले से ही कोरोना से परेशान है. ऐसे में ब्लैक फंगस ने समस्या खड़ी कर दी है. ब्लैक फंगस की समस्या कैसे होती है और इसके होने के कारण क्या हो सकते है. यह आज हम आपकों बताने जा रहे है, जिन्हें जानना बेहद ही जरूरी है. 

डायबिटीज वाले रहे सावधान

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार ब्लैक फंगस की सबसे ज्यादा खतरा डायबिटीज के मरीजों को है. पिछले कुछ दिनों में आए मामलों में सबसे ज्यादा ब्लैक फंगस की समस्या मधुमेह पीडितों को ही हुई है. डाॅक्टरों का कहना है की ऐसे मरीज जो अपने शरीर की साफ सफाई का ध्यान नहीं रखते, मास्क नहीं लगते और गंदे मास्क का उपयोग करते है. ऐसे मरीजों को ब्लैक फंगस जकड़ लेता है. ऐसे में मरीज को ब्लैक फंगस जैसी गंभीर बीमारी से जूझना मुश्किल हो जाता है. 

ऐसे होते है ब्लैक फंगस के लक्ष्ण

ब्लैक फंगस के लक्ष्ण कई तरह के होते है जैसे कि आंखों का बाहर निकलना, आंखों में जलन, आंखे लाल होना जैसे लक्ष्ण होते है. लेकिन ऐसे लक्ष्णों को लोग हलके में ले लेते है. ऐसे लक्ष्ण दिखाई देने पर डाॅक्टरों के अनुसार लोगों को अपने शरीर की साफ सफाई का ध्यान रखना होगा, अपने गले और नाक को नियमित साफ रखे, गंदा मास्क या गंदे कपड़े का इस्तेमान बिल्कुल भी नहीं करें, गिले मास्क का उपयोग बेहद ही खतरनाक साबित होता है, तो ऐसे में मास्क को अच्छी तरह से सूखाकर ही पहने.


Leave Comments