liveindia.news

राम मंदिर पर ओवैसी ने उगला जहर

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के नेता असुद्दीन ओवैसी ने राम मंदिर निर्माण कार्य के भूमिपूजन से पहले जहर उगला है. ओवैसी ने जहर उगलते हुए कहा है कि अयोध्या में सन 1528 में मुगल सम्राट बाबर ने मस्जिद की नींव रखी थी, जिसे 6 दिसंबर 1992 को कारसेवकों ने मस्जिद की गुंबद को गिरा दिया था. ओवैसी ने एक ट्वीट करते हुए कहा की बाबरी मस्जिद थी और रहेगी इंशा अल्लाह.

ओवैसी के अनुसार जहां मस्जिद तामीर हो जाती है, वो हमेशा मस्जिद ही रहती है. उसमें बदलाव नहीं किया जा सकता. यह फैसला बहुसंख्यकों को खुश करने के लिए दिया गया है. ओवैसी के इस बयान से तनाव की स्थिति पैदा हो सकती है. बता दें की ओवैसी बाबरी मस्जिद और राम जन्भूमि पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से अपनी नाराजगी जताते आए है. ओवैसी ने मंदिर के भूमिपूजन कार्यक्रम में पीएम मोदी न शामिल होने की भी अपील कर चके है.

मोदी ने किया राम मंदिर का भूमिपूजन 

पीएम मोदी ने आज अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण कार्य का भूमिपूजन कर दिया है. भूमिपूजन के दौरान नरेन्द्र मोदी, संघ प्रमुख मोहन भागवत, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदी बेन पटेल मौजूद रहे. साथ ही कार्यक्र में देश के करीब 175 साधु संत और गणमान्य नागरिक मौजूद रहे. भूमिपूजन से पहले मोदी ने हनुमानगढ़ी मंदिर में पहुंच कर पूजा अर्चना की और मंदिर की परिक्रमा की. जिसके बाद मोदी सीधे रामजन्मभूमि पहुंचे जहां, उन्होंने रामलला को दंडवत प्रणाम किया और उनकी आरती उतारी. रामलला की आरती करने के बाद मोदी भूमिपूजन स्थल पहुंचे और वैद्धिक मंत्रों के साथ मंदिर के निर्माण कार्य की नींव रखी.


Leave Comments