liveindia.news

वैक्सीन के लिए बनेगे पोलिंग बूथ, होगी चुनाव जैसी तैयारी

कोरोना महामारी से निपटने के लिए भले ही अभी किसी भी वैक्सीन केन्द्र सरकार की ओर से मंजूरी नहीं मिली हो. लेकिन 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन देने की तैयारी की जा रही है. यू तो हर देशवासियों को कोरोना से बचाने के लिए टीका लगाए जाने की योजना है, लेकिन सबसे पहले 30 करोड़ लोगों को टीका लगाया जाएगा. प्राथमिकता के आधार पर सबसे पहले हेल्थ वकर्स, फ्रंटलाइन वकर्स और सीनियर सिटीजनंस को सबसे पहले वैक्सीन देने की तैयारी है.

वैक्सीनेशन के लिए नीति आयोग की ओर से सुझाए गए के तहत चुनावों में जिस तरह से पोलिंग बूथ बनाए जाते है, वैसे ही वैक्सीन बूथ बनाकर लोगों को वैक्सीन मुहैया कराई जाएगी. मंगलवार को पीएम मोदी ने भी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात के दौरान इस बात के संकेत दिए थे और राज्यों से वैक्सीन को लेकर रोडमेप बनाने का कहा था. नीति आयोग के सदस्य बीके पाल ने मुख्यमंत्रियों को एक प्रजेनटेशन देते हुए कहा की कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए पोलिंग बूथ की तरह टीमों का गठन हो और ब्लाॅक लेवल पर रणनीति तैयार की जाएगी. सरकार और निजी डाॅक्टरों को इस अभियान में विशेष जिम्मेदारी दी जाएगी, इसके अलावा जनभागीदारी के लिए भी प्रयास किए जाएंगे और उन्हें उचित प्रशिक्षण दिया जाएगा.

स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने एक प्रजेंटेशन में चार राज्यों दिल्ली, महाराष्ट्र, केरल और राजस्थान को इसके लिए विशेष तैयारी करने को कहा है. क्योंकि पिछले सप्ताह में इन राज्यों में हाई पाॅजिटिविटी रेट सबसे बड़ी चिंता बनता जा रहा है. प्रजेंटेशन में बताया गया है कि दिल्ली में पिछले एक सप्ताह में औसतन 111 लोगों की जान जा रही है, जबकि राजस्थान जो अबतक अच्छा प्रदर्शन कर रहा था वहां पिछले सप्ताह से 21 प्रतिशत पाॅजिटिव केस रिपोर्ट कर रहा था. केरल में औसत पाॅजिटिविटी रेट 15.3 प्रतिशत और दिल्ली में 13.5 प्रतिशत था. जबकि महाराष्ट्र में हालात पहले से सुधरे जरूर है, लेकिन अभी भी चिंताजनक बने हुए है. अब वैक्सीन देने के लिए तैयारीयां जोरो पर है. लेकिन इस मुसीबत से दुनिया को कैसे और कब तक निजात मिलेगी, इसका रास्ता अभीतक दिखाई नहीं दिया है.


Leave Comments