liveindia.news

इन चीज़ों के बिना अधूरी मानी जाती है करवाचौथ की पूजन, ज़रूर करें शामिल

धर्म डेस्क : हिन्दू धर्म की महिलाओं के लिए सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण अगर कोई त्यौहार होता है तो वो है करवाचौथ. इस दिन सुहागिन महिलाएं अपनी पति की लम्बी आयु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं. साथ ही अपने पति के लिए चांद के दर्शन करने के बाद ही अपना व्रत खोलती हैं. लेकिन क्या आप जानती हैं की आपकी करवाचौथ की पूजा अधूरी रह सकती है अगर आपकी थाली में यह समाग्री ना शामिल हो तो. 

इस साल करवाचौथ 4 नवंबर को पड़ रहा है. इस दिन आपकी पूजा में कोई कमी ना रह जाए इस लिए अपनी पूजन की थाली में इन चीज़ों को ज़रूर शामिल करें. छलनी (चांद और पति का चेहरा देखने के लिए), मिटटी का करवा, थाली में रुई की बत्ती, धूप, फूल, मिठाइयां, फल,  करवाचौथ का कैलेंडर, रोली अक्षत, आटे का दिया, घी का दीपक, सिंदूर, चंदन और कुमकुम, शहद और चीनी, पानी का लोटा, गंगाजल, कच्चा दूध और दही, और साथ ही दक्षिणा. 

इस सभी चीज़ों को अपनी करवाचौथ की थाली में जरूर शामिल करें. ऐसा माना जाता है की थाली में पूरी चीज़ें होने पर ही पति की आयु पर इस व्रत का असर पड़ता है. इसके साथ ही आप करवाचौथ के दिन सोलाह श्रृंगार करें . सोलाह श्रृंगार के बिना करवाचौथ की पूजन अधूरी मानी जाती है. 


Leave Comments