liveindia.news

Madhya Pradesh: 148 लाशों के अंतिम संस्कार पर रोया पूरा शहर

कोरोना, कोरोना हे भगवान कब भागेगा ये कोरोना, कितनों की जान लेगा यह कोरोना, हे भगवान कोरोना से सभी को बचाना, रक्षा करना ऐसी दया की भींख अब हर जुबान से निकलने लगी है. श्मशानों में अपनों को खो कर लोगों का एक ही कहना है हे भगवान जरा रहम कर, रक्षा कर हमारी ऐसे ही कुछ हाल मध्यप्रदेश के हो चुके हैं. राजधानी भोपाल में मौतों ने रिकॉर्ड ही तोड़ डाला है. बीते मंगलवार को राजधानी भोपाल में 148 शवों के अंतिम संस्कार से पूरा का पूरा शहर रो पड़ा.

राजधानी भोपाल में इस वक्त हालात ऐसे हैं कि शहर के बड़े से बड़े और गलीकूचों में खुले छोटे अस्पताल मरीजों से भरे पड़े हैं. शहर के अस्पतालों में बेड की मारामारी तो है ही ऑक्सीजन के सिलेंडर तक नहीं हैं. जिसके चलते लोगों की अब सांसें थमने लगी हैं. बीते मंगलवार को भोपाल के भदभदा घाट पर 94 शवों का अंमित संस्कार किया गया. वहीं सुभाष विश्राम घाट में 40, झदा कब्रिस्तान में 14 लोगों को सुपुर्द ऐ खाक किया गया, लेकिन सरकारी आंकड़ों पर गौर किया जाए तो आंकड़ों में सिर्फ 5 लोगों की मौत हुई है.

लेकिन विश्राम घाट और कब्रिस्तान के आंकड़े देखे जाएं तो मौतों का तो अंबार लगा हुआ है. विश्राम घाट और कब्रिस्तान के आंकड़ों के अनुसार 19 अप्रैल को भदभदा घाट पर 83, सुभाष घाट पर 32 और झदा कब्रिस्तान में 8 शवों को सुपुद ए खाक किया गया. इसी तरह 15 अप्रैल को राजधानी में 112, 16 अप्रैल को 118 लोगों का अंतिम संस्कार किया गया.

राज्य में बढ़ते कोरोना के आंकड़ों को देखते हुए, सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कलेक्टरों को पॉजिटिविटी रेट घटाने पर गंभीरता से विचार करने को कहा है और सर्दी, जुखाम, खांसी और बुखार वाले लोगों का तत्काल सैंपल लेने की बात कही है.


Leave Comments