liveindia.news

महाराज सिंधिया को 400 अरब की संपत्ती का नुकसान!

महाराज सिंधिया को 400 अरब की संपत्ती का नुकसान!

मध्यप्रदेश के ग्वालियर का सिंधिया राजघराना कितना बड़ा है, यह सभी जानते है. लेकिन सिंधिया परिवार के पास कितनी संपत्ती है. इसका आंकलन कोई नहीं लगा सकता. लेकिन कहा जाता है कि सिंधिया परिवार की दौलत देश के कई राज्यों के बजट से ज्यादा है. लेकिन पिछले करीब चार दशक से सिंधिया परिवार की संपत्ती विवादो में बनी हुई है और इस विवाद की जड़ और कोई नहीं बल्कि ज्योतिरादित्य सिंधिया की सबसे छोटी बुआ को माना जा रहा है. 

इस बात का खुलासा हाल ही में प्रकाशित हुई द हाउस ऑफ सिंधियाज किताब से हुआ है. किताब कें अनुसार सिंधिया परिवार की संपत्ती विवाद मामले में मध्यप्रदेश सरकार में मंत्री उनकी सबसे छोटी बुआ यशोधरा राजे अपनी हिस्सेदारी छोड़ने के पक्ष में नहीं है. वही सिंधिया की दो बुआ उषा राजे और वसुंधरा राजे की संपत्ति विवाद में कोई रूची नहीं है.

हालांकि सिंधिया की कई संपत्तियों का विवाद कोर्ट में चल रहा है. सिंधिया जब बीजेपी में शामिल हुए थे तो माना जा रहा था कि जल्द ही सिंधिया की संपत्ती का विवाद सुलझा सकता है, लेकिन बीजेपी में आने के बाद भी डेढ़ साल हो गए लेकिन मामला अभी भी नही सुलझा. किताब के अनुसार सिंधिया की तीनों बुआ विवाद का आउट ऑफ कोर्ट सेट्लमेंट करने के पक्ष में है. इसके लिए तीनों बहनों ने कोर्ट में आवेदन भी दिया था, लेकिन बाद में आवेदन वापस ले लिया. सिंधिया की सबसे बड़ी बुआ उषाराजे नेपाल में रहती है. क्याेंकि उनकी शादी नेपाल के सबसे बड़े राजघराने में हुई है और उनके पास भी बेशुमार दौलत है. इसलिए उषाराजे सिंधिया की संपत्ती के मामले में दखल नहीं देती है. वही सिंधिया की दूसरे नंबर की बुआ वसुंधराराजे राजस्थान के धौलपुर राजघराने की बहू है. उनके पास भी अथाह संपत्ती है. इसलिए वह भी मामले में कभी दखल देने के पक्ष में नहीं रहती है. 

अब बची सिंधिया की सबसे छोटी बुआ यशोधरा राजे जो वर्तमान में शिवराज सरकार में मंत्री है. यशोधरा राजे तलाकशुदा है, उनकी संपत्ती की बात करे तो उनके पास कुछ खास दौलत नहीं है. यशोधरा राजे ने शादी करने के बाद अमेरिका में रहने लगी, लेकिन अपने पति से तलाक के बाद वह भारत में आकर राजनीति से जुड़ गई. किताब के अनुसार यशोधरा राजे अपने मायके की संपत्ती में से हिस्सेदारी लेने के लिए काफी गंभीर है. अगर आउट ऑफ कोर्ट सेट्लमेंट होता है तो सबसे ज्यादा फायदा यशेधरा राजे को ही होगा. क्योंकि सिंधिया की दोनो बड़ी बुआ संपत्ती मामले मेें रूचि नहीं रखती है.

सिंधिया को राजमाता ने किया था बेदखल

बता दें कि सिंधिया परिवार की संपत्ती का विवाद राजमाता के जमाने से उठा था. राजमाता ने संपत्ती विवाद को लेकर अपने बेटे माधवराज सिंधिया और उनके पौते ज्योतिरादित्य सिंधिया को परिवार की जायदाद से बेदखल कर दिया था. राजमाता की दो वसीयत थी, जिनमें से एक संपत्ती राजमामा ने अपनी तीनों बेटियों के नाम कर दी थी. तभी से यह विवाद खड़ा हुआ था. पहले तो माधावराज सिंधिया इस संपत्ती विवाद को लड़ते आए और अब ज्योतिरादित्य सिंधिया इस विवाद से जूझ रहे है. आपकों बता दें कि सिंधिया की जिन संपत्ती का विवाद कोर्ट में चल रहा है, उनकी अनुमानित कीमत करीब 400 अरब रुपये है.


Leave Comments