UP के बाद Punjab पर BJP की नजर

पंजाब में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी एक्शन मोड पर नजर आ रही है. जिसके चलते बीजेपी ने चुनावों को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं. और पंजाब के रसूखदार लोगों को पार्टी से जोड़ने पर काम शुरू हो गया है. जानकारी के अनुसार बुधवार 16 जून को पंजाब के 7 नेता जिनमें सिख लीडर भी शामिल हैं, भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं.

भारतीय जनता पार्टी की पंजाब इकाई के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने मंगलवार को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा तथा गृह मंत्री और पूर्व अध्यक्ष अमित शाह के साथ मुलाकात की है और पंजाब को लेकर रणनीति तैयार की गई है. सूत्रों के अनुसार वरिष्ठ सिख नेता और ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष एडवोकेट हरिंदर सिंह कहलों आज बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. उनके अलावा कई सिख नेता आज बीजेपी का दामन थाम सकते है.

आपको बता दें, पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं, अभी तक के ज्यादातर विधानसभा चुनावों में बीजेपी और शिरोमणि अकाली दल के बीच गठबंधन होता था और बीजेपी को अकाली दल के सहयोगी दल के तौर पर चुनाव लड़ना पड़ता था. लेकिन इस बार किसान कानूनों की वजह से अकाली दल और भाजपा के बीच गठबंधन टूट गया है और भाजपा ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया है.

अकाली-बसपा में हुआ गठबंधन​

पंजाब में एक तरफ कांग्रेस पार्टी और सरकार के बीच सत्ता का दंगल चल रहा है तो वही बीजेपी को छोड़ चुका अकाली दल अब अपने पैर मजबूत करने के लिए हाथी की सवारी करने की तैयारी कर रहा है. पंजाब में अकाली दल ने बहुजन समाजवादी पार्टी के साथ अगला विधानसभा का चुनाव लड़ने का फैसला किया है. अकाली दल ने बसपा को 20 सीटे देने का ऐलान भी किया है. अकाली दल और बीसपी के बीच गंठबंधन हो गया है.

गठबंधन का ऐलन आकली दल के सुखवीर सिंह बादल ने एक प्रेस काॅन्फ्रेंस में किया था. सुखवीर सिंह बादल और बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने एक प्रेस काॅन्फ्रेंस करते हुए राज्य में होने वाला अगला विधानसभा का चुनाव एक मिलकर लड़ने का फैसला किया था. सुखवीर सिंह बादल ने कहा है कि आज पंजाब की राजनीति के लिए नया दिन है. बीएसपी और अकाली दल ने 2022 का चुनाव एकसाथ मिलकर लड़ने का फैसला किया है. वही बसपा नेता सतीश मिश्रा ने कहा है कि पंजाब की सबसे बड़ी पार्टी के साथ हमारी पाटी बहुजन समाजवादी पार्टी का गठबंधन हुआ है. हम इससे पहले 1986 में भी एक साथ मिलकर लड़े थे, जिसमें से हमारी पार्टी ने 13 सीटों में से 11 सीटों पर जीत दर्ज की थी.


Leave Comments