liveindia.news

राजस्थान में तख्तापलट, पायलट को बड़ी जिम्मेदारी!

राजस्थान में तख्तापलट, पायलट को बड़ी जिम्मेदारी!

राजनीति में विरोधियों का दोस्त बनना और दोस्तों का विरोधी बनना कोई नई बात नहीं है और ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है राजस्थान कांग्रेस में... राजस्थान के सियासत में नए समीकरणों की आहट सुनाई देने लगी है. कयास लगाए जा रहे है कि अब राजस्थान में भी अब जल्द ही कुछ बड़ी घोषणाए हो सकती है. पंजाब की सियासत में बदलाव के बाद अब ये माना जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान अब राजस्थान और छत्तीसगढ़ में चल रही उठापठक को भी जल्द ही खत्म करने की मूड में है और कोई बड़ी घोषणा कर सकती है.

पायलट-जोशी की मुलाकात

राजस्थान में सियासी हालात के बीच सचिन पायलट ने स्पीकर सीपी जोशी से मुलाकात की है. इस बात की जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट करके दी है. पायलट और जोशी की मेल मुलाकात सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बनी हुई है. पायलट की दिल्ली में राहुल गांधी के साथ लम्बी बैठक हुई थी, उनके बाद सीपी जोशी भी दिल्ली गए थे. और अब पायलट जोशी की मुलाकात ने राजस्थान की सियासत में उबाल ला दिया है. बता दें कि विधानसभा में जब शक्ति परिक्षण की बात आई थी, तो सीपी जोशी ने पायलट का विरोध किया था. पायलट- जोशी के बीच के सबंध प्रदेश की राजनीति अच्छी तरह से जानती है. लेकिन पायलट और जोशी की मुलाकात साफ जाहिर करती है कि राजस्थान की राजनीति में कोई बड़ा उलटफेर हो सकता है. पायलट को बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है, इसलिए पायलट कोई बड़ी जिम्मेदारी से पहले जोशी से अपने सबंध दुरस्त करना चाहते है. 

यह भी बता दें कि जब से पंजाब में सियासी उलटफेर हुआ है, तभी से राजस्थान कांग्रेस में बदलाव की आहट सुनाई देने लगी है. पायलट गुट भी मुखर हो गया है. तो वही गहलोत गुट भी मुखर है. पायलट कैंप के विधायक राजेंद्र चौधरी ने गहलोत पर बडा सियासी हमला किया है. उन्होंने कहा है कि गहलोत की अगुवाई में पार्टी को कभी सफलता नहीं मिली है. राज्य का सीएम सचिन पायलट को बनाया जाए, तो ही पार्टी का भला हो सकता है.

 


Leave Comments