liveindia.news

अखिलेश यादव को चाचा शिवपाल ने दिया बड़ा झटका!

 अखिलेश यादव को चाचा शिवपाल ने दिया बड़ा झटका!

अखिलेश यादव को चाचा शिवपाल ने दिया बड़ा झटका!

उत्तरप्रदेश में अखिलेश यादव और शिवपाल यादव की पार्टी के बीच गठबंधन होने की संभावनाएं पूरी तरह से समाप्त हो गई है. शिवपाल यादव ने मथुरा से अपनी समाजिक परिवर्तन यात्रा शुरू कर दी है. ये परिवर्तन यात्रा उन जगहों से गुजरेगी, जिसे सपा का गढ़ माना जाता है. एक ओर शिवपाल सपा से दूर होते जा रहे है, तो दूसरी ओर कांग्रेस की ओर से शिवपाल को अपने पाले में करने की कोशिशे भी शुरू हो गई है. जिसका नजारा शिवपाल की यात्रा में भी देखने को मिला, जब कांग्रेस के एक दिग्गज नेता इसमें शामिल होने पहुंचे. 

उत्तरप्रदेश में किसकी बनेगी सरकार, सामने आया सर्वे

शिवपाल ने बदली राह

यूपी विधानसभा चुनावों के लिए अब कांग्रेस पूरी तरह तैयार हो चुकी है. पार्टी ने साफ कर दिया है कि सपा और बसपा से वो गठबंधन नहीं करेगी, लेकिन छोटी पार्टियों के साथ समझौता हो सकता है. कांग्रेस की निगाहें सबसे ज्यादा प्रगतिशील समाजवादी पार्टी पर है. अबतक शिवपाल कांग्रेस से दूरी बनाए हुए थे. क्योंकि समाजवादी पार्टी उनकी पार्टी से गठबंधन की कोशिश कर रही थी. शिवपाल ने यह ऐलान किया था कि सपा के पास 11 अक्टूबर तक का समय है. अखिलेश यादव से यदि हमारी पार्टी से गठबंधन करना है तो वो बता करें, नहीं तो हम अपनी अलग राह पर चल देंगे और शिवपाल अलग राह पर भी चलने लगे है. 

उत्तरप्रदेश में किसकी बनेगी सरकार, सामने आया सर्वे

शिवपाल की यात्रा में दिग्गज कांग्रेसी

शिवपाल की यात्रा मथुरा से शुरू हो गई है. लेकिन इस यात्रा में शामिल नेताओं में सबसे चौंकाने वाला नाम है कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम का. कृष्णम को प्रियंका गांधी का करीबी माना जाता है और ये भी दावा किया जा रहा है कृष्णम प्रियंका का संदेश लेकर शिवपाल के पास गए थे. शिवपाल सिंह यादव की सामाजिक परिवर्तन यात्रा के दौरान रथ पर सवार आचार्य प्रमोद कृष्णम की फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है. प्रमोद कृष्णम ने शिवपास सिंह यादव को गदा भेंट की है. इसके बाद आचार्य प्रमोद शिवपास सिंह के समाजिक परिवर्तन रथ पर सवार होकर निकल पड़े.

उत्तरप्रदेश में किसकी बनेगी सरकार, सामने आया सर्वे

कांग्रेस कर रही यूपी में बड़ा खेल

दावा किया जा रहा है कि कांग्रेस यूपी में बड़ा खेल करने वाली है. प्रियंका गांधी की सक्रियता इस ओर इशारा दे चुकी है. किसान न्याय रैली से लेकर लखीमपुर में किसानों के बीच पहुंचने के मामले में प्रियंका गांधी सबसे आगे नजर आई. प्रियंका गांधी विपक्षी दलों के नेताओं में सबसे आगे दिखाई दे रही है. किसानों के हक की लड़ाई लड़कर वो यूपी और पंजाब के किसानों की सहानुभूति भी ले रही है. प्रियंका की सक्रियता को देखते हुए योगी सरकार के साथ ही समाजवादी पार्टी को भी चिंता सता रही है. ऐसे में यदि शिवपाल यादव का कांग्रेस के साथ गठबंधन होता है, तो सबसे बड़ा नुकसान सपा को हो सकता है. साथ ही कांग्रेस बीजेपी के खिलाफ मुख्य विपक्षी दल के रूप में उभर सकती है.

 


Leave Comments