कोरोना कहर: नदियों के बाद अब रेत में दफन मिले शव

पूरे देश में कोरोना महामारी से तांड़व मचा हुआ है. कोरोना के मरीजों को अस्पतालों में दवा, बेड़, आक्सीजन नहीं मिलने के चलते दम तोड रहे है, तो वही कोरोना महामारी ने हालात ऐसे कर दिए है, कि श्मशानों में अंतिम संस्कार के लिए घटों इंतजार करना पड़ रहा है. यहां तक की कई श्मशान घाटों और कब्रिस्तानों में अंमित संस्कार के लिए जगह तक नहीं बची है. कोरोना के ऐसे भयानक विकराल रूप के बीच एक खबर सामने आई थी कि उत्तरप्रदेश के कई जिलों की नदियों में अब संक्रमितों के शवों को बहाया जाने लगा है. इसी बीच दिल को दहला देने वाली एक और खबर सामने आई है. 

खबरों के अनुसार बताया जा रहा है कि उत्तरप्रदेश के उन्नाव में गंगा नदी के पास कई शवों को रेत में दफनाया गया है. रेत में शवों के दफन होने कि सूचना के बाद पुलिस प्रशासन जब मौके पर पहुंचा तो प्रशासन के हाथपांव फूल गए. पुलिस को गंगा नदी के किनारे रेत में कई शव दफन मिले. साथ ही जानकारी मिली है कि बलिया के गंगा नदी के पास भी पुलिस को सात शव मिले है. 

बताया जा रहा है कि यूपी में अबतक पुलिस ने 52 शवों को बरामद किया है. पुलिस के एक अधिकारी के अनुसार शवों को कोरोना संक्रमित होने की आशंका के चलते शवों को अंतिम संस्कार कर दिया गया है. वही सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले को गंभीरता से लेते हुए कहा है कि शवों का अंतिम संस्कार धार्मिक मान्यताओं के अनुरूप किया जाए, मृतकों के शवों को जल में प्रवाहित करना उचित नहीं है. अंतिम संस्कार के लिए सरकार अलग से वित्तीय सहायता देगी.

नदियों में शवों के मिले के बाद अब शवों को रेत में दफनाया जाने लगा है. ऐसे हालातों को देखते हुए अंदाजा लगाया जा सकता है कि यूपी के गांवों में कोरोना संक्रमण ने विकराल रूप धारण कर लिया है. कोरोना का संक्रमण शहरों से फैलता हुए अब गांवों में दस्तक दे चुका है. एक रिपोर्ट के अनुसार यूपी के गांवों में बड़ी तादात में कोरोना के मामले सामने आने लगे है, साथ ही बड़ी तादात में लोगों की मौत होने लगी है.


Leave Comments