liveindia.news

अयोध्या : भूमिपूजन से पहले की गई यह विशेष पूजा

अयोध्या 5 अगस्त को इतिहास रचने वाला है, क्योंकि इस दिन श्री रामलला का भव्य और ऐतिहासिक मंदिर की नीव प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी रखने वाले है. मंदिर के भूमिपूजन से पहले अयोध्या में तैयारियां ऐसे की जा रही है, जैसे की मानो दिवाली नजदीक है. पूरे शहर को भगवामय किया जा रहा है. शहरों की दीवारों का रंग रोगन किया जा रहा है. पीएम मोदी 5 अगस्त को दोपहर के 12 बजे मंदिर निर्माण की आधारशिला रखेंगे, लेकिन भूमिपूजन से दो दिन पहले अयोध्या में एक विशेष पूजन की गई. अयोध्या में आज सुबह दस बजे हनुमान जी के निशान की पूजन की गई. मान्यता है की किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले हनुमान जी के निशान की पूजा की जाती है. आज रविवार को हनुमान जी के निशान के पूजन का कार्यक्रम रखा गया, जिसके दो दिन बाद राम मंदिर के निर्माणकार्य का भूमि पूजन किया जाएगा. 

मंदिर के भूमिपूजन से पहले अयोध्या को दुलहन की तरह सजाया जा रहा है. अध्योध्या शहर की दीवारों पर भगवान राम के जीवन से जुड़े चित्रों को बनाया जा रहा है, अयोध्या के नयाघाट पर करीब 250 से अधिक पेंटिंग बनाई जा रही है. 4 अगस्त और 5 अगस्त को अयोध्यावासी घरो में दीपक जलाएंगे, शहर की सड़कों पर साउंड सिस्टम लगाए जा रहे है, जिनसे राम भजन की धुन सुनाई देगी. मोदी 5 अगस्त को दोपहर 12 बजकर 15 मिनट पर मंदिर का भूमिपूजन करेंगे.

मंदिर निर्माण में लगेगी 11 पवित्र स्थानों की मिट्टी

अयोध्या में श्री राम मंदिर निर्माण को लेकर विश्व हिन्दू परिषद ने दिल्ली के 11 पवित्र स्थानों की मिटटी को पीतल के कलशों में भरकर भेजा है. जिनमें दिल्ली के सिद्ध पीठ कालकाजी, पांडव कालीन भैरव मंदिर, चांदनी चैक गुरुद्वारा, गौरी शंकर मंदिर, श्री दिगंबर जैन लाल मंदिर, कनॉट प्लेस हनुमान मंदिर, शिव नवग्रह मंदिर, काली माता मंदिर, बिरला मंदिर, भगवान वाल्मीकि मंदिर, बद्री भगत झंडेवालान मंदिरों की मिटटी को पितल के कलशों में भरकर शुक्रवार को भेजी है.

ऐसे होगा मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम 

रामलला के मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे. पीएम मोदी नींव पूजन में तांबे का कलश स्थापित करेंगे. तांबे के कलश में सभी तीर्थो का जल, हीरा, पन्ना, सोना और पीतल रखा जाएगा. साथ ही चांदी के नाग-नागिन और कछुआ भी नींव में स्थापित किया जाएगा. मंगल कलश की स्थापना मंत्रोचारण के साथ किया जाएगा. कलश स्थापना के बाद नंदा, भद्रा, जया और पांच ईंटों की पूजा की जाएगी. जिसके बाद श्रीराम मंदिर का श्रीगणेश होगा. 

श्रीराम को पहनेगे नवरत्न जड़ित वस्त्र 

5 अगस्त को भूमि पूजन के मौके पर श्रीराम को हरे रंग के नवरत्न जड़ित वस्त्र पहनाए जाएंगे. हालांकी रामलला को हर दिन अलग-अलग वस्त्र पहनाए जाएंगे, लेकिन 5 अगस्त को बुधवार का दिन है, ऐसे में श्रीराम हरे रंग के वस्त्र वो भी नवरत्न जड़ित वस्त्र पहनेंगे. साथ ही भगवान राम के साथ उनके तीनों भाई और हनुमानजी जी को भी नई पोशाक पहनाई जाएगी.

हेलिकाॅप्टर से पहुंचेंगे मोदी 

5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हेलिकाॅप्टर से अयोध्या पहुंचेंगे. पीएम मोदी का हेलिकाॅप्टर 5 अगस्त को अयोध्या के साकेत महाविद्यालय में उतरेगा. जिसके बाद करीब साढ़े 11 बजे मोदी राम मंदिर परिसर में पहुंचेेंगे और भव्य मंदिर निर्माण का भूमिपूजन करेंगे. मोदी मंदिर परिसर में करीब 1 घंटे तक रहेंगे, जिसके बाद पीएम मोदी का संबोधन होगा और करीब 500 करोड़ की सौगात देंगे. वही मंदिर परिसर में करीब 200 लोग मौजूद रहेंगे. प्रशासन द्वारा भूमिपूजन स्थल पर 50-50 लोगों के लिए अलग-अलग ब्लॉक बनाए गए है, जिनमें से 50 देश के बड़े साधु-संत, 50 देश के बड़े नेता और 50 उद्योगपति और अधिकारी मौजूद रहेंगे. भूमिपूजन कार्यक्रम में देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, कल्याण सिंह, उमा भारती, साध्वी ऋतंभरा और विनय कटियार सहित देश की तमाम हस्तियां मौजूद रहेंगी.

मंदिर की नींव में डला जाएगा टाइम कैप्सूल

राम मंदिर के गर्भगृह से 200 फीट नीचे टाइम कैप्सूल को डाला जाएगा, ताकि राम मंदिर से जुड़े इतिहास को सुरक्षित रखा जाए और भविष्य में लोग अयोध्या के मौजूदार हालातों के बारे में जान सकें. टाइम कैप्सूल एक कंटेनर की तरह होता है, यह तांबे से तैयार किया जाता है. खबरों के अनुसार टाइम कैप्सूल की लंबाई तीन फुट होती है. इस टाइम कैप्सूल कंटेनर में दस्तावेज पूरी तरह से सुरक्षित रहते है.


Leave Comments