liveindia.news

घर में वास्तु पुरूष को प्रसन्न करना जरूरी, नहीं तो...

इंसान के जीवन में कई तरह के समस्याए होती है. समस्याओं को सुलझाने के लिए इंसान क्या से क्या नहीं करता है, लेकिन अपने घर या दफ्तर के वास्तु पर ध्यान नहीं देता. क्योंकि वास्तु के नियमों के अनुसार घर या दफ्तर होना अति आवश्यक है. वास्तु इंसान के जीवन में काफी मायने रखता है, चाहे वह घर हो, दफ्तर हो या फिर कोई भी भूमिपूजन हो वास्तु का ध्यान हमेशा रखना चाहिए. क्योंकि वास्तु के बिना सुख शांति इंसान के जीवन में कभी नहीं आ सकती है. आज हम आपकों वास्तु पूजा के बारे में बताने जा है की क्या होती है वास्तु पूजा, क्या है वास्तु पुरूष और वास्तु पुरूष को प्रसन्नस कैसे किया जाए. 

वास्तु पुरूष भवन के मूल संरक्षक होते है. पुराणों के अनुसार जब देव और असुर के बीच में युद्ध हो रहा था दोनों के बीच संग्राम में भगवान शिव अचानक जमीन पर गिर गए और उनकी पसीने की बूंद से एक बड़ा पुरूष बन गया, जो असुरों को खाने लगा. लेकिन उनकी भूख ही नहीं मिटी. जिसके बाद पुरूष ने भगवान शिव से तीनों लोकों को खाने की बात कही. वही शिव जी ने भी पुरूष को आज्ञा दे दी जैसे ही शिव जी की आज्ञा मिली और पुरूष भूलोक की ओर दौड़ पड़े पुरूष को भूलोक की तरफ दौडते देख देवता और ब्रम्हा जी को चिंता होने लगी. देवताओं ने ब्रह्माजी से असुरों को रोकने को कहा ब्रह्माजी ने देवताओं की अनुरोध का जबाव देते हुए कहा की यह पुरूष औंधे मुंह गिर जाए तो वह कुछ नहीं खा पाएंगे. 

ब्रह्माजी की बात सुनकर देवताओं ने असुरों को औंधे मुंह गिरा दिया और उनपर बैठक गए. जिसके बाद पुरूष ने ब्रह्माजी के सामने नतमस्तक हो गया और कहा की वह अब उनके साथ ही रहेगा. जिसके बाद ब्रह्माजी ने पुरूष को वरदान दिया की वह हर तीन महीने में दिशा बदलोगे और धरती पर जब जब कोई भी निर्माण कार्य होगा. उसमें सबसे पहले तुम्हारी पूजा होगी और अगर तुम्हारी पूजा नहीं होती है तो तुम उसे परेशान कर सकते हो. उसी दिन से वास्तु पुरूष की पूजा की जाने लगी. जब भी कोई भवन, दफ्तार या किसी भी चीज का भूमिपूजन होता है, तो पहले वास्तु पुरूष की मूर्ति स्थापित की जाती है. वास्तु पुरूष की पूजा के साथ उन्हें भोग लगाना भी जरूरी होता है. वास्तु पुरूष को अमवस्या और पूर्णिमा के दिन भोग लगाना जरूरी होता है. इसलिए घर बनाने से पहले या घर में रहने की शुरूआत में वास्तु पुरूष की पूजा होना बेहद जरूरी है, ताकी आपके जीवन में सुख-समृद्धि आती रहे.


Leave Comments