liveindia.news

कोरोना की वो भयावय तस्वीरें, जो कर देंगी आपको विचलित

जिस दिन मौत की शहजादी आएगी, ना सोना काम आएगा ना चांदी आएगी. यह फिल्म का गाना आज के दौर में कोरोना से हो रही मौतों से मेल खाता है. क्योंकि सरकार की और आम जनता की लाख कोशिशों के बावजूद भी कोरोना से हो रही मौतों पर लगाम नहीं लग पा रही है. धन, बल, इलाज के बाद भी देश में मौतों का अम्बार लगा हुआ है. देशभर में कोरोना ने ऐसा तांड़व मचा के रखा है, कि चाराें ओर लाशें ही लाशें दिख रही है. यह हम नहीं बल्कि सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही तस्वीरे बोल रही है.

 

बीते करीब दो सप्ताह से सोशल मीडिया पर देश के कुछ राज्यों के श्मशान घाटों की तस्वीरें काफी ट्रेंड कर रही है, जो आपकों विचलित कर सकती है. कोरोना से बचने के लिए दो गज की दूरी की सलाह तो दी जा रही है, लेकिन वायरल तस्वीरों में श्मशान घाटों में लाशों को जालाने के लिए दो गज की दूरी भी नसीब नहीं हो रही है. तस्वीरों को देखकर हर कोई सोच में डूबा है की अब क्या होगा, हम बचेंगे या नहीं. तस्वीरों को देखने के बाद भी श्मशान घाटों में लाशों की कतारें लगी हुई है.

उत्तरप्रदेश के लखनऊ के अस्पतालों की हालत तो भयंकर ही खराब बताई जा रही है. अस्पतालों में ना तो बेड है और ना ही वेंटीलेटर मरीजों को भर्ती कराने के लिए लोगों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है. इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक तस्वीर जो लखनऊ के बैकुंठधाम श्मशान घाट की बताई जा रही है. तस्वीर में मुक्तिधाम के बाहर शवों की कतारें लगी हुई है. इतना ही नहीं श्मशान घाट में दाह संस्कार करने के लिए अब टोकन दिए जाने लगे है.

गुजरात के सूरत से एक भयावह तस्वीर सामने आई है. जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है की कोरोना कैसे लोगों पर हावी हो गया है. गुजरात के सूरत में कोरोना से मरने वालों के अंतिम संस्कार के लिए चिता की भट्टी बनाई गई थी, लेकिन इन दिनों श्मशान घाट में लगी लाशों की कतारों से 24 घंटे शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है. जिससे चिता की भट्टी अब पिघलने लगी है.

 

छत्तीसगढ़ की रायपुर के हालात को और भी बेकार होते जा रहे है. सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीरों के अनुसार बताया जा रहा है कि कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते अस्पतालों में बेड़ और दवाओं की कमी आने लगी है. जिसके चलते मौतों का आकंड़ा तेजी से बढ़ने लगा है. बताया जा रहा है की रायपुर के श्मशान घाटों पर पहले 30 से 35 शवों का अंतिम संस्कार होता था, लेकिन अब इनकी संख्या बढ़कर 60 से 70 हो गई है.

सोशल मीडिया पर एक और तस्वीर लोगों को डरा रही है. यह तस्वीर कर्नाटक के बेंगलूरू के श्मशान घाट की बताई जा रही है.

बताया जा रहा है कि बेंगलूरू में कोरोना से इतनी मौते हो रही है कि श्मशान घाट के बाहर एंबुलेंस की लंबी कतारे लगने लगी है. लोगों को शव के दाह संस्कार के लिए कई घंटों तक इंतजार करना पड़ रहा है. लोग कई घंटों तक शवों के लिए श्मशान घाट के बारह एंबुलेंस में अपनी बारी का इंतजार कर रहे है.

 


Leave Comments