liveindia.news

अशरफ गनी का भाई तालिबान में शामिल

अशरफ गनी का भाई तालिबान में शामिल

अफगानिस्तान पर हमला बोलकर तालिबान अपनी हुकुमत जमा चुका है. तालिबान में हालात बेहद ही खराब होते जा रहे है. तालिबानी लड़के हिंसक घटनाओं को अंजाम देने में लगे है. इसी बीच एक बड़ी खबर ने पूरे देश को चौंका के रख दिया है. अफगानिस्तान छोड़कर भागे पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी का भाई तालिबान में शामिल हो गया है. गनी का भाई हशमत गनी ने तालिबान के सामने घुटने टेक दिए है. 

जानकारी के अनुसार हशमत गनी ने तालिबान को समर्थन देने का ऐलान किया है. हशमत गनी के तालिबान में शामिल होने की एक फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है. हशमत गनी अफगानिस्तान की राजनीति से अच्छी तरह से वाकिफ है, हशमत गनी का तालिबानियों को काफी सहयोग मिल सकता है. सूत्रों का कहना है हशमत पहले ही तालिबान को समर्थन देने का फैसला कर चुका था. जैसे ही तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया तो हशमत ने तालिबान को खुलकर समर्थन दे दिया.

कौन होगा अगला राष्ट्रपति 

अफगानिस्तान की हुकुमत पर कौन राज करेगा, कौन होगा अगला राष्ट्रपति यह अभी तय नहीं हो पाया है. सूत्रों का कहना है कि मुल्ला बरादर तालिबान का राष्ट्रपति बनाना चाहता है. लेकिन आतंकी संगठन के अंदर उसके खिलाफ विरोध होने लगा जिसके चलते बरादर का राष्ट्रपति बनने का मामला ठंडे बस्ते में चला गया है. बताया जा रहा है कि आतंकी संगठन किसे राष्ट्रपति बनाया जाए, इसको लेकर बैठके कर रहे है. 

कहा है अशरफ गनी

तालिबान ने जब अफगानिस्तान पर धावा बोला था, उस दौरान अशरफ गनी 15 अगस्त को अपने परिवार के साथ चार्टर्ड विमान से अफगानिस्तान छोड़कर भाग गया था. बताया जा रहा है कि अशरफ गनी अभी संयुक्त अरब अमीरात में है. बताया जा रहा है कि अशरफ गनी ने पहले अमेरिका से शरण मांगी थी, लेकिन अमेरिका ने उनका प्रस्ताव ठुकरा दिया. इसके बाद अशरफ गनी यूएई भाग गया. देश छोड़ने के बाद अशरफ गनी ने एक वीडियों के माध्यम से कहा था कि तालिबान जीत गया है, उन्होंने अपने लोगों को बचाने के लिए देश छोड़ा है. लेकिन मैं जल्द अफगानिस्तान वापस लौटूंगा.


Leave Comments