liveindia.news

लड़कियों और विधवाओं की लिस्ट मांग रहा तालिबान!

लड़कियों और विधवाओं की लिस्ट मांग रहा तालिबान!

अफगानिस्तान को तालिबान ने अपने कब्जे में कर लिया है और अब अफगानिस्तान पर तालिबान का राज है. अफगानिस्तान के राष्ट्रपति देश छोड़कर चले गए हैं और अब तालिबान की सरकार अफगानिस्तान को अपने हिसाब से चलाने में जुट गई है. इसके कारण अफगानिस्तान की महिलाओं पर कई संकट आते दिख रहे हैं. जुलाई के महीने में तालिबान ने बदख्शां और तखर के प्रांतों में तालिबान ने कब्जा किया था. अफगानिस्तान के लोग बढते हुए आतंक को देखकर देश छोड़ने के लिए मजबूर हो रहे हैं और देखा जा सकता है कि एयरपोर्ट पर लोगों की भीड़ किस तरह जुट रही है और लोग देश छोड़ने के लिए क्या-क्या तरीके अपना रहे हैं.

तालिबान में डर धीरे धीरे अपना इलाका बड़ा करते जा रहा है और कहा जा रहा है कि अभी यह आलम है तो आगे और क्या क्या देखने को मिलेगा. यह समय पहले के तालिबान के राज की याद दिला रहा है जब महिलाओं की आजादी को छीन लिया गया था और उन्हें बुर्का पहनने पर मजबूर किया गया था , साथ ही उन पर कई सारी पाबंदियां भी लगाई गई. 

तालिबान के कब्जा करने के बाद से अफगान महिलाओं में डर बढ़ गया है. कहा जा रहा है कि तालिबान ने 15 साल से बड़ी लड़कियों की लिस्ट मांगी है. तालिबान के लड़ाकों के साथ विवाह करने के लिए 15 से अधिक आयु वाली लड़कियों की लिस्ट और 45 से कम आयु वाली विधवा महिलाओं की लिस्ट मांगी है. कहा जा रहा है कि विवाह करने के बाद उन लड़कियों को पाकिस्तान के वजीरिस्तान ले जाया जाएगा और फिर उनको इस नाम में परिवर्तित कर दिया जाएगा. कहा जा रहा है कि आदेश ने बाहर रहने वाली महिलाओं और उनके परिवारों में एक डर पैदा कर दिया है और उन्हें अपना देश छोड़कर जाने और अपनी जान बचाने के लिए मजबूर कर दिया है. तालिबान ने 12 साल के होने के बाद महिलाओं को शिक्षा देने पर प्रतिबंध लगाया है, महिलाओं को रोज़गार प्रतिबंध लगाने के कानून को लागू करने का संकेत दिया है. 

शादी की आड़ में महिलाओं का इस्तेमाल करके लोगों को आतंकवाद की तरफ आकर्षित करना यह तालिबान की एक रणनीति है. महिलाओं से जबरन शादी कर उन्हें लोगों को आकर्षित करने के लिए इस्तेमाल कर तालिबान अपनी आबादी बढ़ाना चाहते हैं. जिस तरह से तालिबान ने महिलाओं की लिस्ट मांगी है उसको देखकर लगता है कि जल्द ही तालिबान अफगानिस्तान में अपने नियम लागू करेगा.


Leave Comments