इस वजह से मोदी कैबिनेट में शामिल नहीं हुआ जदयू

लाइव इंडिया न्यूज- रविवार को मोदी सरकार ने अपने कैबिनेट का विस्तार किया.जिसमें कुल 13 मंत्रियों का फेरबदल हुआ. मोदी सरकार के विस्तार में जदयू को शामिल नहीं करने को लेकर कई कयास लगाए जा रहे है. इस मुद्दे को लेकर नीतीश के पुराने सहयोगी लगातार हमला बोल रहे हैं. लेकिन जदयू के विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक मोदी कैबिनेट में जदयू में शामिल नहीं होने के पीछे शिवसेना और एआईडीएमके जैसी सहयोगी पार्टियों के अंदर डिफरेंसेस कारण हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी एक जदयू नेता का दावा है कि मोदी सरकार में जदयू के शामिल होने के लेकर कई विवाद नहीं है बल्कि एनडीए के दूसरी सहयोगी पार्टियों के बीच तालमेल नहीं होने कारण इसे आगे के लिए टाल दिया गया है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक शिव सेना केंद्र सरकार में ज्यादा शेयर की मांग कर रही थी और तमिलनाडु में एआइएडीएमके सरकार अभी पूरी तरह व्यवस्थित नहीं है और इसी वजह से मोदी मंत्रिमंडल विस्तार में सहयोगी पार्टियों को शामिल नहीं किया गया.

हालांकि जदयू के इस नेता का कहना है कि प्रधानमंत्री के चीन दौरे से वापस लौटने के बाद मोदी कैबिनेट का एक छोटा विस्तार संभव है जो सिर्फ सहयोगी पार्टियों के लिए हो सकता है। आपको बता दें कि बीजेपी के राष्ट्रीय अमित शाह के निमंत्रण पर जदयू एनडीए में शामिल होने का फैसला कर चुकी है.

बीजेपी के सीनियर नेता  और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि जदयू एनडीए का नेचुरल अलायंस है। उन्होंने इस बात को सिरे से खारिज कर दिया कि बीजेपी और जदयू में किसी बात को लेकर मतभेद है. जदयू के मंत्रिमंडल में शामिल होने को लेकर कोई विवाद नहीं है.

आपको बता दें कि शनिवार तक यह कयास लगाये जा रहे थे कि जदयू की तरफ से आरसीपी सिंह और रामनाथ ठाकुर मोदी कैबिनेट में शामिल हो सकते हैं. हालांकि सीएम नीतीश कुमार ने पत्रकारों के सवाल पर अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कहा था कि मुझे इस बात की जानकारी मीडिया के जरिए ही मिल रही है.


Leave Comments