नोटबंदी और जीएसटी की मार झेल रही है जीडीपी, फिसल कर 5.7 पर आ गई

नोटबंदी और जीएसटी के बाद देश की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) पर खासा असर हुआ है. जीडीपी वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की पहली अप्रैल-जून की तिमाही में घटकर 5.7 फीसदी पर आ गयी है. यह इसका तीन साल का निचला स्तर है. यह लगातार दूसरी तिमाही है, जबकि भारत की आर्थिक वृद्धि दर चीन से भी पीछे रही है.

विनिर्माण गतिविधियों में सुस्ती के बीच नोटबंदी का असर कायम रहने से जीडीपी की वृद्धि दर कम रही है. चीन ने जनवरी-मार्च और अप्रैल-जून तिमाहियों दोनों तिमाहियों में 6.9 फीसदी की वृद्धि दर्ज की है. इससे पिछली तिमाही (जनवरी मार्च) में भारत की जीडीपी की वृद्धि दर 6.1 फीसदी रही थी. 2016-17 की पहली तिमाही की संशोधित वृद्धि दर 7.9 फीसदी थी. इससे पहले जनवरी-मार्च, 2014 में जीडीपी की वृद्धि दर 4.6 फीसदी दर्ज हुई थी.


Leave Comments