liveindia.news

ये हैं मोदी सरकार के नवरत्न जिनके सर सजेगा ताज

लाइव इंडिया न्यूज- केंद्र सरकार रविवार को तीसरी बार अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करने जा रही है. नरेंद्र मोदी ने जिन नए चेहरों को अपनी मंत्रिमंडल में शामिल किया है, उनकी सूची इस प्रकार है : 

शिव प्रताप सिंह : उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद हैं इसके साथ ही  संसदीय समिति (ग्रामीण विकास) के सदस्य भी हैं. वो उत्तर प्रदेश से साल 1989 से 1996 तक लगातार 4 बार विधायक रहे. साथ ही शिव प्रताप 8 साल तक यूपी के कैबिनेट मिनिस्टर भी रहे हैं और ग्रामीण विकास, एजुकेशन और जेल सुधार के लिए किए गए अपने काम के लिए जाने जाते हैं.

अनंतकुमार हेगड़े : कनार्टक से लोकसभा सांसद हैं. विदेश और मानव संसाधन मामलों पर बनी संसदीय समिति के सदस्य भी हैं. वो पहली बार जब सासंद बने थे तब उनकी उम्र महज 28 साल थी और लोकसभा सांसद के तौर पर यह उनका 5वां कार्यकाल है. अनंतकुमार अपने संसदीय कार्यकाल के दौरान कई संसदीय समितियों के सदस्य रहे हैं जिनमें वित्त, गृह, मानव संसाधन, कृषि और विदेश विभाग शामिल हैं. इतना ही नहीं वो 4 बार स्पाइसेज बोर्ड ऑफ इंडिया के सदस्य भी रह चुके हैं.

सत्यपाल सिंह : उत्तर प्रदेश के बागपत से लोकसभा सांसद हैं. इसके अलावा सत्यपाल संसदीय समिति (ऑफिस ऑफ प्रॉफिट) के सदस्य भी हैं. सत्यपाल महाराष्ट्र काडर के 1980 बैच के आईपीएस ऑफिसर रह चुके हैं. साल 2008 में सरकार की तरफ से उन्हें आंतरिक सुरक्षा पदक दिया जा चुका है साथ ही 1990 में आंध्र प्रदेश और मध्य प्रदेश में नक्सली प्रभावित इलाकों में असाधारण काम करने के लिए उन्हें स्पेशल सर्विस मेडल दिया जा चुका है. इतना ही नहीं सत्यपाल मुंबई, पुणे और नागपुर के पुलिस कमिश्नर भी रह चुके हैं. साल 1990 में मुंबई में हो रहे क्राइम को खत्म करने का श्रेय भी इन्हें दिया जाता है. बागपत के बसौली गांव में जन्में सत्यपाल ने एमएससी औप केमिस्ट्री में एमफिल किया है. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया से मैनेजमेंट में एमबीए भी किया है साथ ही वो पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में एमए और नक्सलवाद में पीएचडी भी कर चुके हैं.

अश्विनी कुमार चौबे : बिहार के बक्सर से लोकसभा सांसद हैं. चौबे संसदीय समिति (ऊर्जा) के सदस्य भी हैं. अश्विनी कुमार सेंट्रल सिल्क बोर्ड के सदस्य भी हैं. वो 5 बार लगातार बिहार असेंबली से विधायक चुने गए हैं, इसके साथ ही उन्होंने 8 साल तक स्वास्थ्य, शहरी विकास और जनस्वास्थ्य, इंजिनियरिंग जैसे कई अहम विभागों को संभाला है. उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत पटना यूनिवर्सिटी के छात्र संघ के अध्यक्ष के तौर पर की थी. अश्विनी 70 के दशक में जेपी मूवमेंट का हिस्सा भी रह चुके हैं और इस दौरान वो जेल भी गए थे. उन्हें 'घर-घर में हो शौचालय, तभी होगा लाडली बिटिया का कन्यादान' जैसे नारों का क्रेडिट भी दिया जाता है, साथ ही उन्होंने महादलित परिवारों के 11 हजार शौचालय बनवाने में भी सहायता की. उन्होंने जूलॉजी में बीएम ऑनर्स किया है साथ ही उनकी योग में भी रुचि है.

राज कुमार सिंह:  बिहार के आरा से लोकसभा सांसद हैं. पूर्व बिहार काडर की 1975 बैच के पूर्व आईएएस ऑफिसर हैं. आरके सिंह फैमिली वेलफेयर पर बनी संसदीय समिति (हेल्छ एंड फेमिली, पर्सनल, पेंशन और जन शिकायत और कानून और न्याय संबंधी मामलों) के मेंबर भी हैं. वो देश के गृह सचिव भी रह चुके हैं. इससे पहले वो कई अहम जिम्मेदारियां निभा चुके हैं जिनमें रक्षा उत्पादन सचिव और संयुक्त सचिव के साथ साथ बिहार सरकार में उद्योग, लोक निर्माण और कृषि विभाव शामिल हैं. वह पुलिस आधुनिकीकरण और जेल आधुनिकीकरण जैसे अपने कामों के लिए भी जाने जाते हैं.

हरदीप सिंह पुरी  : 1974 बैच के पूर्व आईएफएस ऑफिसर हैं और फॉरन पॉलिसी और नेशनल सिक्योरिटी में अपने एक्सपीरियंस व विशेषज्ञता के लिए जाने जाते हैं. वो रिसर्च एंड इंफोर्मेशन सिस्टम फॉर डेवलपिंग कंट्रीज (आरआईएस) थिंक टैंक के अध्यक्ष हैं और न्यूयॉर्क के अंतर्राष्ट्रीय शांति संस्थान के उपाध्यक्ष रह चुके हैं. हरदीप पुरी ब्राजील और ब्रिटेन में भी राजनयिक सेवाएं दे चुके हैं और इसके साथ ही वो जिनेवा में भी भारत के स्थायी प्रतिनिधि रहे हैं. इसके अलावा पुरी ने संयुक्त राष्ट्र में सुरक्षा परिषद में भारतीय प्रतिनिधिमंडल के हेड के तौर पर भी काम कर चुके हैं. हरदीप सुरक्षा परिषद में काउंटर-टेररेजम कमिटी के अध्यक्ष भी रहे हैं.

वीरेंद्र कुमार : मध्य प्रदेश के टिकमगढ़ से लोकसभा सांसद हैं. वीरेंद्र 6 बार से लोकसभा सदस्य हैं. इसके साथ ही वो श्रम पर संसदीय स्थायी समिति के चेयरपर्सन भी हैं. वो लेबर एंड वेलफेयर और एससी- एसटी वेलफेयर कमिटी के सदस्य भी रह चुके हैं. 70 के दशक में वीरेंद्र मे जेपी मूवमेंट में हिस्सा लिया था और इमरजेंसी के दौरान वो मीसा के तहत 16 महीने जेल में भी रहे थे. उन्होंने स्टूडेंट्स की परेशानी को देखते हुए एक मूवमेंट की शुरुआत की और उनकी परेशानियों को दूर करने के लिए लाइब्रेरी की शुरुआत की. बता दें कि वीरेंद्र कुमार दलित समुदाय से आते हैं. वो जाति से जुड़ी परेशानियों को दूर करने के लिए युवाओं को अपने साथ जोड़ने का काम भी कर रहे हैं. वीरेंद्र कुमार अनाथालय, स्कूल और ओल्ड एज होम (बुजुर्गों के लिए घरों) के लिए भी काम करते हैं. उन्होंने इकनॉमिक्स से एमए और चाइल्ड लेबर में पीएचडी की है.

गजेंद्र सिंह शेखावत:  राजस्थान के जोधपुर से लोकसभा सांसद हैं. ये वित्तीय मामलों पर बनी संसदीय समिति के प्रमुख भी हैं. टेक्वोलॉजी के जानकार और प्रगतिशील किसान के तौर पर गजेंद्र ग्रामीण समुदाय के लिए रोल मॉडल के तौर पर जाने जाते हैं साथ ही वो सिंपल लाइफ के लिए भी जाने जाते हैं. गजेंद्र सिंह सोशल मीडिया पर काफी फेमस हैं जिससे युवाओं के साथ उनके कनेक्शन के बारे में पता चलता है.  

अलफोंस कननथनम : केरल काडर के 1979 बैच के आईएएस ऑफिसर रह चुके हैं. वह डीडीए के कमीशनर भी रह चुके हैं. पेशे से वकील भी हैं. अलफोंस उस समय मशहूर हुए थे जब वो डीडीए के कमिश्नर थे और उन्होंने 15, 000 अवैध इमारतों का अतिक्रमण हटाया. जिला कलेक्टर के रूप में उन्होंने भारत के पहले साक्षरता आंदोलन चलाया और साल 1989 में कोयट्टम को भारत का पहला 100% साक्षर (एजुकेटेड) टाउन बनाया. अलफोंस ने साल 1994 में एक एनजीओ जनशक्ति की शुरुआत की. अलफोंस आईएएस के पद से रिटायर होने के बाद साल 2006 से 2011 तक केरल के विधायक रहे.


Leave Comments