liveindia.news

Vijyadashmi: जानिए, दशहरे पर क्यों खाया जाता है पान 

आज पूरे देश में दशहरे का पर्व मनाया जा रहा है. हिंदु धर्म में दशहरा का काफी महत्व है. इस दिन को धर्म और अच्छाई के रूप में मनाया जाता है. विजयादशमा के दिन भगवान राम ने देवी दुर्गा ने महिषासुर का वध कर धर्म और सत्य की रक्षा की थी. 

माना जाता है किविजयादशमी पर श्री राम रक्षा स्त्रोत, सुंदरकांड आदि का पाठ भी करते हैं. इसी के साथ विजयादशमी के दिन पान खाने, खिलाने और हनुमान जी पर पान अर्पित करने का एक अलग ही और विशेष महत्व होता हैं. दरअसल पान मान सम्मान, प्रेम व विजय का सूचम माना जाता हैं इसलिए विजयादशमी के दिन रावण, कुम्भकण और मेघनाद दहन के पश्चात पान का बीणा खाना सत्य की जीत की खुशी को व्यक्त करता हैं.

इसी के साथ शारदीय नवरात्रि के बाद मौसम में बदलाव के कारण संक्रामक रोग फैलने का खतरा बढ़ जाता हैं इसलिए स्वास्थ्य की दृष्टि से पान का सेवन पाचन क्रिया को मजबूत कर संक्रामक रोगों से बचाता हैं. 

कहते हैं इस दिन रावण पर विजय पाने की अभिलाषा में प्रभु श्री राम ने पहले नीलकंठ के दर्शन किए थे और विजयदशमी पर नीलकंठ के दर्शन और भगवान शिव से शुभ फल की कामना करने से जीवन में भाग्योदय, धन धान्य और सुख समृद्धि की प्राप्ति होने लगती है.


Leave Comments