liveindia.news

दिग्विजय सिंह ने मांगी श्रीराम प्रभु से माफी

अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर का भूमिपूजन कर दिया है. अब राम मंदिर बनने की प्रक्रिया शुरू होने वाली है. मंदिर निर्माण को लेकर करीब 500 साल से आस लगए बैठे लोगों में आज खुशी का माहौल है, तो वही कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर मुहूर्त को लेकर सवाल खड़े किए है. दिग्विजय सिंह ने कहा है कि जयोतिष शास्त्र की मान्याताओं के विपरीत है शिलान्यास कार्य. दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा है कि आज अयोध्या जी में भगवान रामलला के मंदिर का “शिलान्यास” वेद द्वारा स्थापित ज्योतिष् शास्त्र की स्थापित मान्यताओं के विपरीत हो रहा है, हे प्रभु हमें क्षमा करना. यह निर्माण निर्विघ्न रूप से पूरा हो यही हमारी आप से प्रार्थना है. जय सिया राम.

बता दें कि इससे पहले भी दिग्गी ने 5 अगस्त को अशुभ मुहूर्त बताया था. उन्होंने पीएम मोदी से भूमिपूजन कार्यक्रम को टालने की अपील की थी. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा था की भगवान राम करोड़ों हिंदुओं के आस्था के केंद्र हैं धर्म की स्थापित मान्यताओं के साथ खिलवाड़ मत करिए. मैं मोदी जी से फिर अनुरोध करता हूं कि 5 अगस्त के अशुभ मुहुर्त को टाल दीजिए.

ओवैसी ने उगला जहर

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के नेता असुद्दीन ओवैसी ने राम मंदिर निर्माण कार्य के भूमिपूजन से पहले जहर उगला है. ओवैसी ने जहर उगलते हुए कहा है कि अयोध्या में सन 1528 में मुगल सम्राट बाबर ने मस्जिद की नींव रखी थी, जिसे 6 दिसंबर 1992 को कारसेवकों ने मस्जिद की गुंबद को गिरा दिया था. ओवैसी ने एक ट्वीट करते हुए कहा की बाबरी मस्जिद थी और रहेगी इंशा अल्लाह.

मोदी ने किया राम मंदिर का भूमिपूजन

पीएम मोदी ने आज अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण कार्य का भूमिपूजन कर दिया है. भूमिपूजन के दौरान नरेन्द्र मोदी, संघ प्रमुख मोहन भागवत, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदी बेन पटेल मौजूद रहे. साथ ही कार्यक्र में देश के करीब 175 साधु संत और गणमान्य नागरिक मौजूद रहे. भूमिपूजन से पहले मोदी ने हनुमानगढ़ी मंदिर में पहुंच कर पूजा अर्चना की और मंदिर की परिक्रमा की. जिसके बाद मोदी सीधे रामजन्मभूमि पहुंचे जहां, उन्होंने रामलला को दंडवत प्रणाम किया और उनकी आरती उतारी. रामलला की आरती करने के बाद मोदी भूमिपूजन स्थल पहुंचे और वैद्धिक मंत्रों के साथ मंदिर के निर्माण कार्य की नींव रखी.


Leave Comments