liveindia.news

क्या आप जानते है मुस्लिम लोग बैठकर क्यों करते है पेशाब

मुस्लिम धर्म में कई ऐसी बातें हैं जिनके बारे बहुत कम लोगों को पता है. आज हम आपको बताने जा रहे हैं की आखिर मुस्लिम लोग बैठकर क्यों पेशाब करते है. दरअसल सभी के पेशाब करने का अलग तरीका होता है. कोई बैठकर करता है, तो कोई खड़े होकर करता है, कई लोग टॉयलेट सीट का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन आप ने अक्सर देखा होगा की मुस्लिम लोग हमेशा बैठकर ही पेशाब करते हैं. 

कहा जाता है की पेशाब को इस्लाम में अशुद्ध माना गया है, जिस कारण सभी मुस्लिम लोग पेशाब के छींटे अपने शरीर या कपड़ों पर लगने से बचाते है. क्यों खड़े होकर पेशाब करने से कपड़ों पर उसकी बूँदें पढ़ने की संभावना रहती है. इसी कारण मुस्लिम समुदाय के लोग नमाज और कुरान तक नहीं पढ़ सकते.

वही यह भी बताया जाता है कि इस्लाम धर्म में सभी के लिए अपने प्राइवेट पार्ट को छिपाना बेहद जरूरी है, क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि इस्लाम में अपने प्राइवेट पार्ट का दिखावा करना पाप माना जाता है और खड़े होकर पेशाब करने से ज्यादा बैठकर पेशाब करने पर प्राइवेट पार्ट छिपा रहता है. इस कारण से मुस्ल्मि लोग बैठकर पेशाब करते हैं. साथ ही ऐसा भी माना जाता है पेशाब अगर बैठ कर ही किया जाए तो बेहतर है. क्योंकि खड़े होकर पेशाब करने से रज-तम तरंगे इकट्ठा होकर नीचे पैर की तरफ बढ़ने लगती हैं और पैरों में नकारात्मक ऊर्जा इकट्ठा होने के कारण पाताल से निकलने वाली कष्टदायक तरंगे पैरों के रास्ते शरीर में तेजी से आ सकती हैं जिससे बहुत नुकसान हो सकते हैं.


Leave Comments