मसालेदार खाने के हैं शौकीन तो जान लें ये बातें

भारतीय लोग बिना मसालों वाला खाना खाने की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं. इसमें की शक नहीं है की मसालों से आपको अनगिनत स्वास्थ्य लाभ होते हैं. लेकिन
ज्यादा खाने से आपको कई समस्याएं भी हो सकती हैं. इससे आपको पेट के अल्सर सहित अन्य पाचन समस्याएं भी हो सकती हैं.

मसालेदार भोजन और पेट का अल्सर

जब आप मिर्ची जैसे मसाला खाते हैं, तो इससे आपकी चीभ जलती है, जाहिर है इससे पेट में जलन होगी. मिर्च में कैप्सैसिन तत्व होता है, जिसके कई स्वास्थ्य लाभ होते
हैं. यह पी पदार्थ जारी करता है, यह तत्व दर्द और जलन का कारण भी बनता है. सरसों और सहजन जैसे मसाले ऊतक को नुकसान पहुंचाते हैं.

मसालेदार भोजन के जोखिम

मसालेदार भोजन कुछ लोगों को दस्त और पेट दर्द की समस्या भी हो सकती है. क्योंकि मसाले एक प्राकृतिक अड़चन की तरह काम करते हैं, जो आंत्र आंदोलनों को
प्रभावित करता है क्योंकि यह पाचन तंत्र से गुजरता है.संवेदनशील पेट वाले लोगों के लिए प्रभाव बहुत गंभीर हो सकते हैं, हालांकि कुछ लोगों के लिए कैप्सैसिन एक
लैक्सटिव के रूप में कार्य करता है. मिर्च में पाए जाने वाले तत्व कैप्सैसिन को ब्लड थिनर के रूप में भी जाना जाता है.

यह अधिकांश लोगों के लिए उपयोगी और स्वस्थ हो सकता है, लेकिन जो लोग ब्लड थिनर दवाएं ले रहे हैं, यह उनके लिए बहुत खतरनाक हो सकता है, क्योंकि इससे
रक्तस्राव का खतरा बढ़ जाता है.

ध्यान दें

इसमें किओ शक नहीं है कि लोग स्पाइसी फूड को छोड़ना नहीं चाहते हैं. लेकिन आपको अपने खाने में बदलाब करते रहना चाहिए. उदहारण के लिए लगातार स्पाइस फूड्स
ना खाएं. अगर आपको लगता है कि इनका सेवन अधिक हो रहा है, तो कुछ समय इनसे ब्रेक लें और कुछ हल्की-फुल्की चीजें खाएं.


Leave Comments