liveindia.news

अब सेना में बढ़ेगी महिलाओं की भूमिका - निर्मला सीतारमण

लाइव इंडिया न्यूज़। निर्मला सीतारमण को रक्षामंत्री बनाए जाने के बाद सेना में भी महिलाओं की भूमिका बढ़ने की उम्मीद की जा रही है. माना जा रहा है कि सेना में महिलाओं को भी समान अवसर मिलेंगे. खासकर लड़ाकू भूमिका में भी महिलाओं की तैनाती का प्रयास अब तेज होगा. आजतक से खास बातचीत में नवनियुक्त रक्षा मंत्री ने इस बात के साफ संकेत भी दिए हैं. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, 'सेनाओं में वीमेन इन कॉम्बेट का रोल बढ़ाने के लिए मैं खुले मन से उस पर विचार करूंगी.' रविवार को निर्मला सीतारमण को देश का नया रक्षा मंत्री बनाया गया.  इससे पहले वो वाणिज्य मंत्री थीं. इंदिरा गांधी जब प्रधानमंत्री थीं तो उन्होंने रक्षा मंत्रालय खुद अपने पास रक्षा था. इस प्रकार निर्मला सीतारमण देश की पहली ऐसी महिला हैं जिन्हें पूर्णकालिक रूप से रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई है. इस बीच रक्षा राज्य मंत्री डॉ सुभाष भांमरे ने निर्मला सीतारमण से मुलाकात की. भांमरे ने कहा, 'मैने उनको बधाई दी है. तीनों सेनाओं में महिलाओं की भूमिका बढ़ रही है. निर्मला जी के आने से इसको गति मिलेगी.'
क्या है सेना में महिलाओं की स्थिति
गौरतलब है कि इसी साल भारतीय सेना ने बड़ा बदलाव करते हुए फैसला लिया है कि अब पुरुष सैनिकों के साथ महिला जवान भी लड़ाई के मैदान में नजर आएंगी. आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने कहा था कि महिलाओं को लड़ाकू भूमिका में लाने की प्रक्रिया पर तेजी से काम चल रहा है. उन्होंने बताया था कि शुरुआत में महिलाओं को मिलिट्री पुलिस में भर्ती किया जाएगा. दुनिया के कुछ ही देशों में महिलाओं को सेना में लड़ाई के मौर्चे पर मौका दिया जाता है. अभी तक भारत में भी सिर्फ पुरुष सैनिकों को लड़ाई की भूमिका में रखा गया है. सेना में अभी तक महिलाओं को मेडिकल, लीगल, एजुकेशनल, सिगनल और इंजीनियरिंग विंग में देखा जाता है. पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी महिलाओं को सेना में आगे बढ़ाने की पहल की थी. उन्होंने सेना में पूर्ण महिला बटालियन बनाने और महिलाओं को युद्धक पोत पर तैनात करने की पैरवी की थी. गणतंत्र दिवस परेड में थलसेना, वायुसेना और नौसेना के पारंपरिक पुरुष दलों के साथ महिलाओं की अलग टुकड़ियां भी नजर आने लगी हैं.


Leave Comments