liveindia.news

कांग्रेस का मास्टर स्ट्रोक, दो दिग्गज पार्टी में शामिल!

कांग्रेस का मास्टर स्ट्रोक, दो दिग्गज पार्टी में शामिल!

बीते कुछ सालों से देशभर में कांग्रेस का ग्राफ काफी डाउन हुआ है. संकट से जूझ रही कांग्रेस ने अपनी इमेज को खत्म मरने के लिए रणनीति बनाना शुरू कर दिया है. कांग्रेस अब देश के दो बड़े युवा नेताओं को अपने पाले में करने की कोशिश कर रही है. CPI नेता कन्हैया कुमार ने हाल ही में राहुल गांधी से मुलाकात की है, जिसके बाद से कसाय लगाए जाने लगे है कि वह जल्द ही कांग्रेस में शामिल हो जांएगे. इसी बीच एक और युवा नेता की कांग्रेस में एंट्री लेने की चर्चाएं शुरू हो गई है. सूत्रों का कहना है कि जिग्नेश मेवानी भी जल्द ही कांग्रेस का दामन थमा सकते है.

इसके आलावा गुजरात में पटेल ऑइकान बन चुके हार्दिक पटेल पहले ही कांग्रेस में शामिल हो चुके है और गुजरात कांग्रेस की कमान संभाल रहे है. सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस कन्हैया, जिग्नेश मेवानी को पार्टी में शामिल करके युवाओं की पार्टी न रहने का ठप्पा हटाना चाहती है. क्योंकि सिंधिया, जितिन प्रसाद जैसे युवा नेता पार्टी छोड़कर जा चुके है. कांग्रेस चाहती है की इन नेताओं की भरपाई के लिए कन्हैया कुमार, जिग्नेश मेवानी जैसे नेताओं को पार्टी में लाया जाए.

बता दे कि जिग्नेश मेवानी ने 2017 में गुजरात की वडगाम सीट से चुनाव लड़ा था, तो उस दौरान कांग्रेस ने उनके खिलाफ अपना उम्मीदवार नहीं उतारा था और मेवानी को चुनाव जीतने में मदद की थी. सूत्रों के मुताबिक कन्हैया कुमार ने बीते मंगलवार को एक बार फिर राहुल गांधी से मुलाकात की है. जिसके बाद से अटकले तेज हो गई है. हालांकि कांग्रेस में शामिल होने को लेकर कन्हैया कुमार की ओर से कोई बयान नहीं आया है. सूत्रों का कहना है कि जिग्नेश मेवानी और कन्हैया की कांग्रेस में एंट्री प्रशांत किशोर के जरिए होगी. बता दें कि कन्हैया कुमार, जिग्नेश मेवानी और हार्दिक पटेल नीचे तबके से उठे है. तीनों नेता साधारण परिवारों से आते हैं और कांग्रेस इसकी को कैस कराकर यह बताना चाहती है कि कांग्रेस पार्टी आम युवाओं और सभी वर्गों को साथ लेकर चलने वाली पार्टी है.

कन्हैया में कांग्रेस का भविष्य!

कन्हैया कुमार पीएम मोदी के खिलाफ बड़ा चेहरा माने जाते है. वही कांग्रेस कन्हैया कुमार को पार्टी के भविष्य के तौर पर देख रही है. सूत्रों का कहना है कन्हैया कुमार को कांग्रेस में शामिल करने के लिए पार्टी ने जौनपुर पूर्व विधायक नदीम जावेद को जिम्मेदारी सौंपी है. कन्हैया और जावेद के बीच बातचीत भी हो चुकी है. हालांकि दोनों की मुलाकता अभी सार्वजनिक तौर पर सामने नहीं आई है. इसके अलावा सूत्रों का कहना है कि कन्हैया कुमार की राहुल गांधी से दो बार मुलाकात हो चुकी है. दोंनो की मुलाकता प्रशांत किशोर के जरिए हुए है. कन्हैया की लगभग पूरी बातचीत हो चुकी है, जल्द ही कन्हैया ब्च्प् का दामन छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो जाएंगे. अगर कन्हैया कुमार कांग्रेस का दामन थामते है तो वह अलगे लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की डूबती नैया को पार लगाते नजर आ सकते है. 

कन्हैया पर कई आरोप

कन्हैया कुमार का सीपीआइ में कद घटा है. क्योंकि उनपर कई गंभीर आरोप लगे है. कन्हैया कुमार पर 2015 में जब वह जवाहरलाल नेहरू छात्रसंघ के अध्‍यक्ष थे, उस दौरान उनपर देश विरोधी नारे लगवाने का आरोप लगा था. उसी समय से कन्हैया कुमार देशभर में चर्चित हो गए थे. मामले में कन्‍हैया को जेल भी जाना पड़ा था, हालांकि बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी. 2019 के लोकसभा चुनाव में कन्हैया कुमार सीपीआइ के टिकट पर बेगूसराय से चुनाव लड़े थे, लेकिन बीजेपी नेता और मोदी सरकार में मंत्री गिरिराज सिंह से हार गए थे. तभी से ब्च्प् में कन्हैया कुमार का लगातार कद घटता गया.


Leave Comments