liveindia.news

आतंकियों के निशाने पर भारत के मंदिर, हाई अलर्ट जारी

आतंकियों के निशाने पर भारत के मंदिर, हाई अलर्ट जारी

जम्बू-कश्मीर में धारा 370 हटे दो साल हो गये हैं. अब जम्बू कश्मीर के लोग बेख़ौफ़ हवाओं का लुत्फ़ ले रहे हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा भारत में बड़ी आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने की कोशिश में लगे हैं.

हमले के लिए दो तारीखें रहेंगी मुख्य 

बता दें, धारा 370 हटने के बाद आतंकी संगठनों के सरकार की कड़ी सुरक्षा के कारण अपने मंसूबों को अंजाम देने का मौका नहीं मिला. ऐसे में सांप्रदायिक तनाव फैलाने के लिए आतंकवादी जम्मू के मंदिरों पर हमले की योजना बना रहे हैं. यह खबर मिलते ही जम्मू में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है. सुरक्षा एजेंसियों के अनुसार आतंकी संगठन 5 अगस्त और 15 अगस्त को जम्बू में मंदिरों को निशाना बनाने का प्रयास कर सकते हैं. ये दावा किया जा रहा है कि 5 अगस्त और 15 अगस्त को आतंकी अपने प्लान को अंजाम दे सकते हैं. गौरतलब है कि 5 अगस्त के दिन ही जम्बू कश्मीर में आर्टिकल 370 हटी थी और 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस है इन दोनों मौकों पर भारत पर आतंकी हमला करके बदला रचने की साजिश पाकिस्तान रच रहा है. 

ना'पाक' हरकतों को करेंगे नापाक

बहरहाल, अनुमान लगाया जा रहा है कि पाकिस्तान अपनी इस नापाक हरकत को अंजाम ड्रोन के जरिए दे सकता है. शहर के सारे इलाकों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. जगह-जगह चेकिंग पॉइंट बना दिये गए हैं और ताबड़तोड़ चैकिंग चल रही है. सुरक्षा एजेंसियों के अनुसार जैश और लश्कर जैसे आतंकवादी संगठनों का फोकस अब कश्मीर की बजाय जम्मू पर ज्यादा है, जिसके लिए वो ड्रोन का उपयोग आईईडी भेजने के लिए कर रहे है. बता दें, गुरुवार रात जम्बू के पगरवाल और साम्बा के बॉर्डर से सटे गाँव चेलयारी में 4 जगहों पर पाकिस्तानी ड्रोन देखे गए हैं. बीएसएफ के जवानों ने ड्रोन पर फायरिंग भी की लेकिन ड्रोन पाकिस्तानी सीमा में वापस लौट गए. जम्बू कश्मीर पुलिस ने 6 फ़ीट लंबा और 17 किलो वज़नी 6 पंखों वाला ड्रोन अखनूर सेक्टर के काहनचक  में मार गिराया था जिससे उससे बंधी 5 किलो आईईडी बरामद की गई थी.


Leave Comments