liveindia.news

अब जनवरों को सांस लेने में दिक्कत, किया गया क्वारंटाइन

भारत में कोरोना वायरस अबतक इंसानों का अपनी चपेट में ले रहा था, लेकिन अब जानवरों भी कोरोना से संक्रमित होने लगे है. ऐसा ही एक मामला कर्नाटक के तुमकुरु जिले से आया है. यहां करीब 50 बकरी और भेड़ों को सांस लेने में दिक्कत के चलते क्वारंटाइन कर दिया गया है. जिले के पशुपालन अधिकारी का कहना है कि गोल्लारहट्टी तालुके के गोडेकेर गांव में एक चरवाहे की कुछ बकरियों और भेड़ों को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी, लोगों को आशंका है की कोरोना संक्रमण के चतले जानवरों को कोरोना ने अपनी चपेट में ले लिया है. इसलिए जानवरों को क्वारंटाइन किया गया है, ताकि अगर जानवारों में कोरोना के लक्षण है तो वह किसी दुसरे इंसान या फिर जानवारों में न फैले.

कोरोना से मरने वालों के शव गड्ढे में फेंके का आया वीडियो 

कोरोना वायरस से मरने वालों के शवों को बेरहमी से गड्ढे में फेंके जाने का एक वीडियो सामने आया है वीडियो में देखा जा सकता है कि कोरोना से मरने वालों के शवों को शवों को जमीन में दफनाने के समय उन्हें गड्ढे में फेंका जा रहा है. यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. यह वीडियो कर्नाटक का बताया जा रहा है. वीडियो सामने आने के बाद से कांग्रेस और जेडीएस ने कर्नाटक की बीजेपी सरकार को घेर लिया है. मामला सामने आने के बाद मामले की जांच के आदेश दे दिए गए है.

वायरल वीडियो में साफ तौर पर देखा जा सकता है की PPE सूट पहले कर्मचारी एम्बुलेंस से शवों को निकालकर बेदर्दी से कूडे की तरह गड्ढे में फेंक रहे है. वीडियो सामने आने के बाद से राज्य की बीजेपी सरकार पर कई सवाल खड़े होने लगे है. JDS ने सरकार पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया है, जिसमें कहा गया है सावधान हो जाइये, अगर खुदा ना खास्ता आपका या आपके परिवार का कोई सदस्य कोविड-19 से मर जाता है तो कर्नाटक की बीजेपी सरकार इस तरह शव को अन्य शवों के साथ एक गड्ढे में फेंक देती है.

राज्य में अबतक 246 की मौत

बता दें कि कर्नाटक में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे है. राज्य में अबतक 15,242 कोरोना के मामले सामने आ चुके है, जबकि 246 लोगों की मौत हो चुकी है. कुल मामलों में से 7,078 मामले एक्टिव हैं, हालांकी अबतक 7,918 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके है. यह भी बता दे की भारत में कोरोना से पहली मौत कर्नाटक में ही हुई थी.


Leave Comments