पत्नी को भरण-पोषण की राशि देने के लिए किडनी बेचने निकला मजदूर

मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण करने वाले एक युवक ने आठवीं पास अपनी पत्नी को पढ़ाने के लिए जी तोड़ मेहनत की. ग्रेजुएशन, पीजीडीसीए और बीएड करके पत्नी काबिल बन गई और प्राइवेट नौकरी करने लगी. इसके बाद प्रकाश अहिरवार को लगा अच्छे दिन आएंगे, लेकिन उसके बुरे दिन शुरू हो गए. पत्नी ने उसे तलाक दे दिया और अब भरण पोषण के लिए 2500 रुपए प्रतिमाह राशि मांग रही है.

न्यायालय ने प्रकाश को भरण पोषण के लिए आदेश भी दे दिया. अब न्यायालय के आदेश का पालन करने के लिए प्रकाश अपनी किडनी बेचने के लिए जगह-जगह पोस्टर लगा रहा है. पढ़ाने के अलावा उसने गांव की पैतृक जमीन बेचकर 16 लाख स्र्पए का मकान बनाकर पत्नी के नाम कर दिया था. पत्नी ने उससे भी प्रकाश को बेदखल कर दिया.

प्रकाश की इस मार्मिक अपील ने लोगों को झकझोर कर रख दिया. पेशे से मजदूरी करने वाले प्रकाश को सबसे ज्यादा आहत पत्नी की चालाकी ने किया है. उसका कहना है कि यदि उसे तलाक देना था तो वह पहले ही दे जाती. लेकिन पढ़ लिखकर और मकान अपने नाम कराकर तलाक लिया. इतना ही नहीं उसने एक मजदूर पर भरण पोषण के लिए मामला भी दायर कर दिया. अब उसके पास और कोई रास्ता नहीं बचा, इसलिए वह एक किडनी बेचकर बकाया राशि देना चाहता है.


Leave Comments