liveindia.news

आबकारी विभाग में फर्जी चालान से 41 करोड़ की हेरा-फेरी, 6 सस्पेंड

इंदौर में शराब ठेकों के 41.40 करोड़ स्र्पए से अधिक के घोटाले में आबकारी विभाग के सहायक आयुक्त संजीवकुमार दुबे सहित छह अफसरों को निलंबित कर दिया गया है. उपायुक्त विनोद रघुवंशी का भी तबादला कर दिया गया है. निलंबित अधिकारियों में लसूड़िया आबकारी वेयरहाउस के प्रभारी डीएस सिसोदिया, महू वेयर हाउस के प्रभारी सुखनंदन पाठक, सब इंस्पेक्टर कौशल्या सबवानी, हेड क्लर्क धनराज सिंह परमार और अनमोल गुप्ता भी शामिल हैं.

इसी के साथ इंदौर में 3 साल से अधिक समय से जमे 20 अधिकारियों और बाबुओं को भी हटा दिया गया है. इनमें उपायुक्त के अलावा 7 जिला आबकारी अधिकारी, 11 आबकारी उप निरीक्षक और एक लिपिक शामिल हैं. फर्जी बैंक चालान के जरिये शराब ठेके हासिल करने के मामले का खुलासा होने के बाद आबकारी और वित्त विभाग दोनों की बदनामी हो रही थी. इसलिए वित्त मंत्री जयंत मलैया ने इंदौर में यह बड़ा कदम उठाया.

मंत्री ने कार्रवाई की पुष्टि करते हुए कहा कि मामले की जांच में प्रथम दृष्टया जो तथ्य सामने आए हैं उसे देखते हुए यह कदम उठाया गया है. अधिकारियों पर कार्रवाई में देरी इसलिए हुई कि हम राजस्व की वसूली करना चाहते थे. फर्जी बैंक चालान की 41.40 करोढ़ की राशि में से अब तक 23 करोड़ स्र्पए की वसूली हो चुकी है. बाकी की राशि दोषी ठेकेदारों की संपत्ति कुर्क करके वसूल की जाएगी.


Leave Comments